Acidity से क्या होता है – एसिडिटी दूर करने के उपाय, गैस और एसिडिटी में अंतर

आज इस पोस्ट में हम जानेंगे की Acidity Se Kya Hota Hai और Acidity Dur Karne Ke Upay साथ ही जानेंगे की एसिडिटी क्या होती है और गैस और एसिडिटी में क्या अंतर है.

Acidity Se Kya Hota Hai और Acidity Dur Karne Ke Upay

साथ ही पोस्ट में जानेंगे की एसिडिटी बनने के कारण क्या है और एसिडिटी में क्या नहीं खाना चाहिए. इन सबके बारे में इस पोस्ट में हम विस्तार से जानेंगे.

Acidity Se Kya Hota Hai

एसिडिटी की वजह से आपको कई तरह की समस्या हो सकती है. एसिडिटी होने पर सीने में और गले में जलन हो सकती है और खट्टी-खट्टी डकारे भी आ सकती है. इसके अलावा एसिडिटी होने पर पेट फूलना, साँसों में बदबू, उलटी होना जैसी समस्याएं हो सकती है.

एसिडिटी की वजह से हमारा पूरा ध्यान सिर्फ पेट पर ही लगा रहता है, किसी भी दुसरे काम में हमारा ध्यान नहीं लग पाता है. इसकी वजह से बार-बार खट्टी डकारे आ सकती है. एसिडिटी होने पर सिरदर्द भी हो सकता है, जिसकी वजह से मन एकाग्रचित्त नहीं हो पाता है.

Acidity Dur Karne Ke Upay

एसिडिटी दूर करने के कई तरह के उपाय हो सकते है जैसे कोई दवाई, टेबलेट या घरेलु उपचार जैसे सौंफ, अजवाईन आदि का सेवन भी एसिडिटी को दूर कर सकता है. कई बार एसिडिटी होने पर हम Eno पी लेते है और कुछ देर बाद ही हमें आराम मिलने लग जाता है.

आयुर्वेद के मुताबिक हरितिका एक ऐसी दवाई का काम करती है जो एसिडिटी से आराम दिलाने में बहुत फायदेमंद होती है. इसमें ऐसे तत्व पाए जाते है जो पेट सम्बंधित परेशानियों को दूर करते है. इसके अलावा अंजीर भी एसिडिटी की समस्यां को दूर करने में फायदेमंद होता है. यह अन्य पेट संबंधी समस्यां के निवारण में भी उपयोगी है.

इसके अलावा अजवाईन, दालचीनी भी एसिडिटी की समस्या में बहुत उपयोगी मानी जाती है.

हाइपर एसिडिटी के लक्षण

हाइपर एसिडिटी होने पर आपको निम्न लक्षण देखने को मिल सकते है :

  • खट्टी-खट्टी डकारे आना
  • पेट और गले में तेज जलन होना
  • खाना खाने का मन नहीं करता
  • कभी कब्ज जैसा तो कभी दस्त जैसा महसूस होना
  • जी मचलना या घबराना
  • उलटी होना
  • पेट में दर्द होना आदि

गैस और एसिडिटी में अंतर

सामान्यत कुछ लोगो को लगता है की गैस और एसिडिटी दोनों  एक ही है परन्तु ऐसा नहीं है. गैस और एसिडिटी में थोडा अंतर होता है. जब किसी मनुष्य को गैस की समस्या होती है तो गैस मुह से डकार के जरिये या फिर मलाशय से निकलती है. यह गैस दुर्गन्ध युक्त होती है. गैस की समस्यां होने पर आपको पेशाब करने में दिक्कत, पेट फुला हुआ लगना, उलटी जैसा लगना, सिर-दर्द, आलस और थकान महसूस हो सकती है.

वही अगर बात करे एसिडिटी की तो एसिडिटी की समस्यां से पाचन से जुडी होती है. जब हम खाना खाते है तो हमारा शरीर खाने में से जरुरी पोषक तत्वों को अलग निकालता है इसी दौरान हमारे शरीर में एसिड भी बनता है. जब यह एसिड ग्रासनली या ग्रासिका की तरफ उठता है तब ऐसी स्थिति में एसिडिटी की समस्यां उत्पन्न होती है. एसिडिटी होने पर पेट फूलना, सीने में जलन होना, पेट में दर्द जैसे लक्षण देखने को मिलते है.

Acidity Kya Hoti Hai

जब पेट की गेस्ट्रिक ग्रंथि या नलिका, हमारे शरीर में अम्ल (acid) ज्यादा बनाने लग जाती है तब उसकी वजह से होने वाली स्थिति एसिडिटी कहलाती है.

खाने को पचाने और तोड़ने के लिए हमारा पेट हाइड्रोक्लोरिक अम्ल या एसिड उत्पन्न करता है. जब इस एसिड की मात्रा शरीर में बढ़ने लग जाती है तब हमें पेट दर्द, पेट फूलना, गैस एवं एसिडिटी जैसी दिक्कते हो सकती है.

Acidity Banne Ke Karan

कई बार हम कुछ जरुरत से ज्यादा खा ले लेते है और जब वह खाना ठीक से पच नहीं पाता तब पेट में आपको गैस बनने या एसिडिटी की शिकायत हो सकती है. इसके अलावा ज्यादा मसालेदार व तीखा खाना, भूख लगने पर खाना ना खाना, दिन भर कुछ ना खाना भी एसिडिटी बनने का कारण हो सकता है.

इसके अलावा धुम्रपान करने, शराब पीने, तनाव और ख़राब लाइफस्टाइल की वजह से भी आपको एसिडिटी की समस्या हो सकती है.

Acidity Me Kya Nahi Khana Chahiye

अगर आपको एसिडिटी की समस्यां है तो आप कोशिश करे की कम मसाले वाला खाना ही खाए, वरना यह आपकी समस्या को और भी बाधा सकता है. इसके अलावा खट्टे फलों और सब्जियों के सेवन से बचना चाहिए.

एसिडिटी होने पर हमें फैट युक्त चीजो जैसे: आलू चिप्स, जंक फ़ूड, दूध और आइसक्रीम आदि से दुरी बना लेना चाहिए और ना ही कॉफ़ी एवं कोल्ड ड्रिंक का सेवन करना चाहिए.

Acidity – FAQs
Acidity Kaise Hoti Hai

एसिडिटी होने का सबसे मुख्य कारण हमारी रोजमर्रा की दिनचर्रिया एवं खान पान होता है. खाना जल्दी जल्दी खाना, ठीक से न चबाना और जरुरत से ज्यादा खाना खा लेने पर एसिडिटी की समस्यां हो सकती है. खाना ठीक से ना पचने के कारण भी एसिडिटी हो सकती है.

Acidity Ke Liye Tablet

एसिडिटी होने पर डॉक्टर इसके लक्षणों को देखते हुए आपको Antaacid की टेबलेट देते है जिनमे एलुमिनियम, कैल्शियम या मैग्नीशियम हो सकता है.

एसिडिटी का आयुर्वेदिक दवा

एसिडिटी में Kudos Ayurveda Acidos दवाई ली जाती है, जिससे बहुत जल्दी आराम मिलता है. यह एक आयुर्वेदिक दवाई होती है.

एसिडिटी से होने वाली बीमारी

एसिडिटी की वजह से कई तरह की घटक बीमारियाँ भी हो सकती है. एसिडिटी के कारण आपको अल्सर, पेनक्रियाज कैंसर आदि जैसी बीमारियाँ तक हो सकती है.

खून में एसिडिटी के लक्षण

रक्त में एसिडिटी होने पर रोगप्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो सकती है. खून में एसिडिटी होने पर आपको यह लक्षण देखने को मिल सकते है जैसे: चर्म रोग, गठिया रोग, थकान महसूस होना, सिरदर्द, बदहजमी आदि के अलावा आपकी एकाग्रता में भी कमी हो सकती है.

हाइपर एसिडिटी की अंग्रेजी दवा

Cimetidine, Ranitidine और Famotidine आदि.

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट  Acidity Se Kya Hota Hai और Acidity Dur Karne Ke Upay  पसंद आई होगी.

अगर पोस्ट पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगो के साथ share करे, ताकि उन्हें भी इसका फायदा मिल सके और इस पोस्ट से जुड़ा कोई सवाल हो तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के पूछ सकते है.

Questions & Answer:
Online Paise Kaise Kamaye

Online पैसे कैसे कमाए – Internet से पैसे कैसे कमाए – Top Ideas To Make Money

Paise Kaise Kamaye
BSc Computer Science Se Kya Hota Hai और BSc Computer Science Ke Baad Kya Kare

BSc Computer Science से क्या होता है – बीएससी कंप्यूटर साइंस के बाद क्या करे

Education
Flipkart Se Kya Hota Hai और Flipkart Se Order Kaise Karen

Flipkart से क्या होता है – फ्लिपकार्ट से आर्डर कैसे करें, फ्लिपकार्ट कस्टमर केयर नंबर

Kya Kaise
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *