Doorbeen का आविष्कार किसने किया – दूरबीन कितने प्रकार के होते हैं

आज इस पोस्ट में हम जानेंगे की Doorbeen Ka Avishkar Kisne Kiya और दूरबीन कितने प्रकार के होते हैं साथ ही जानेंगे की दूरबीन क्या है इसके लाभ बताइये और दूरबीन कैसे काम करता है.

Doorbeen Ka Avishkar Kisne Kiya और दूरबीन कितने प्रकार के होते हैं

साथ ही पोस्ट में जानेंगे की दूरबीन किस काम में आती है और दुनिया की सबसे बड़ी दूरबीन का नाम क्या है. इन सब के बारे में इस पोस्ट में हम विस्तार से जानेंगे.

दूरबीन क्या है इसके लाभ बताइए

दूरबीन एक ऐसा यन्त्र होता है जिसकी मदद से हम किसी भी दूर स्थित वस्तुओ को आसानी से और अच्छी तरह से देख पाते है. दूरबीन की मदद से हमसे काफी दूर स्थित वस्तुओ जैसे: बिल्डिंग, इंसान आदि को भी देख पाते है. इसके अलावा हम आकाश में दूर स्थित वस्तुओ को भी देख सकते है.

दूरबीन से कई तरह के फायदे होते है. इसकी मदद से हम दूर स्थित वस्तुओ को भी बड़ी आसानी से देख सकते है. आकाश में दूर स्थित वस्तुओ को भी इसकी मदद से देखा जा सकता है. यह दूर स्थित वस्तुओ को साफ़-साफ़ देखने के काम में आती है.

Doorbeen Ka Avishkar Kisne Kiya

दूरबीन का आविष्कार का श्रेय हेन्स लिपरशी (Hens Lippershey) को दिया जाता है. गैलिलियों ने तो केवल दूरबीन का विकास किया था. उसे और बेहतर बनाने का श्रेय गैलिलियों को ही जाता है.

दूरबीन का अविष्कार सन् 1608 में नीदरलैंड के चश्मा बनाने वाले हेन्स लिपरशी ने किया था , तब उस दूरदर्शी का नाम “Kijker” दिया गया था. यह एक डच भाषा में प्रयोग होने वाला एक शब्द था जिसका मतलब ‘देखने वाला’ होता है.

लिपरशी ने जिस दूरबीन को बनाया था वह दो लेंसों से मिलकर बनी थी. इसमें उत्तल और अवतल दोनों ही प्रकार के लेंस का प्रयोग किया गया था. इस दूरदर्शी की मदद से किसी भी वस्तु को दो से तीन गुना  ज्यादा बढ़ा करके देखा जा सकता है.

लिपरशी कोई वैज्ञानिक नहीं था बल्कि वह तो एक चश्मे बनाने वाला था, जो बहुत ही अच्छे चश्मे बनता था. 

उसके पास कई तरह के लेंस थे. एक दिन लिपरशी ने कुछ लेंस को आपस में मिलाया,  और उसने उनकी मदद से जीन वस्तुओ को देखा, वह तीन गुना तक अधिक नजदीक दिखाई दे रही थी. इसके बाद उसने दोनों आँखों से देखा जाने वाला दूरबीन का अविष्कार किया.

दूरबीन कितने प्रकार के होते हैं

दूरबीन दो प्रकार के होते है:

  1. अपवर्तक दूरबीन 
  2. परावर्तक दूरबीन 

अपवर्तक दूरबीन तीन प्रकार के होते है:

  1. खगोलीय दूरबीन : खगोलीय दूरबीन का उपयोग आकाश में दूर स्थित चीजों जैसे: गृह, धूमकेतु, तारे, उल्कापिंड, चाँद आदि को देखने के लिए किया जाता है.
  2. पार्थिव दूरबीन : पार्थिव दूरबीन का इस्तेमाल धरती पर ही मौजूद दूर की वस्तुओं जैसे: मकान, बिल्डिंग इंसान आदि को देखने के लिए उपयोग किया जाता है.
  3. गैलीलियन दूरबीन : इस दूरबीन को गैलिलियों ने बनाया था. यह भी धरती पर मौजूद चीजों को देखने के लिए उपयोग की जाती है. यह भी पार्थिव दूरबीन की ही तरह होता है.
दूरबीन कैसे काम करता है

दूरबीन में दो एक सामान क्षमता वाले लेंस लगे होते है. इन दोनों लेंसों को एक ही दिशा में या एक सीध में रखा जाता है. इन दोनों को एक  सीध में इसलिए रखा जाता है ताकि यह दोनों लेंस एक समय में एक ही दिशा और एक ही वास्तु को फोकस करें. 

जब ये दोनों लेंस एक सीध में होते है तब उस वस्तु को बेहतर और साफ़-साफ़ देखा जा सकता है.

Doorbeen Ka Upyog

दूरबीन का उपयोग दूर स्थित वस्तुओ को बढ़ा और क्लियर देखने के लिए किया जाता है. इसका इस्तेमाल  धरती और आकाश में दूर स्थित वस्तुओ जैसे बिल्डिंग, मनुष्य, तारे, गृह, खगोलीय पिंड आदि को देखने में किया जाता है.

दूरबीन की कीमत

दूरबीन अलग-अलग तरह के आते है और उनकी कीमत भी अलग-अलग होती है. इसकी शुरुवाती कीमत 650 रुपये होती है. यह आकार में थोड़ा छोटा भी होता है. इससे कई अधिक महंगे दूरबीन भी देखने को मिलते है.

Doorbeen – FAQs

Doorbeen Kis Kaam Mein Aata Hai

दूरबीन दूर स्थित वस्तुओ को देखने के काम में आती है. यह दूर की चीजों को नजदीक में बताता है.

Doorbeen Ko English Me Kya Kehte

दूरबीन को इंग्लिश में टेलिस्कोप (Telescope) कहा जाता है.

दूरबीन में कौन सा लेंस होता है

दूरबीन में उत्तल लेंस का प्रयोग किया जाता है.

विश्व की सबसे बड़ी दूरबीन का नाम क्या है

विश्व की सबसे बड़ी दूरबीन का नाम अपार्चर स्फेरिकल रेडियो टेलिस्कोप है. यह दूरबीन चीन के पास है.

दूरबीन का दूसरा नाम क्या है

दूरबीन को दूरदर्शी और टेलिस्कोप के नाम से भी जाना जाता है.

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट Doorbeen Ka Avishkar Kisne Kiya और दूरबीन कितने प्रकार के होते हैं पसंद आई होगी.

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर कर दीजिए और इस पोस्ट से जुड़ा आपका कोई भी सवाल हो तो उसे आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं.

Questions & Answer:
Gulab Ka Phool Khane Se Kya Hota Hai और गुलाब के फूल का पाउडर कैसे बनाएं

गुलाब का फूल खाने से क्या होता है – Powder कैसे बनाएं, फायदे नुक्सान

Health
Echo Test Se Kya Hota Hai और Echo Test Kaise Hota Hai

Echo Test से क्या होता है – फुल फॉर्म, इको टेस्ट कैसे होता है और क्या पता चलता है

Health
Period आने पर क्या करना चाहिए, क्या खाना चाहिए, लक्षण, नुक्सान

Period आने पर क्या करना चाहिए, क्या खाना चाहिए, लक्षण, नुक्सान

HealthKya Kaise
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *