Google Search Console क्या होता है और यह कैसे काम करता है

आज के इस टॉपिक में हम जानेंगे कि Google Search Console Kya Hai, यह कैसे काम करता है, इसमें अपनी साइट कैसे इंडेक्स करते हैं, यह सभी प्रशन हम आज इस पोस्ट में जान लेंगे तो आइए जानते हैं।

Google search console kya hai

Google Search Console Kya Hota Hai

आइए आज हम इस पोस्ट में जानते हैं: Google Search Console Kya Hota Hai ?,  गूगल सर्च कंसोल एक फ्री टूल है।जिसके द्वारा हम अपने वेबसाइट पर आने वाले यूजर्स के बारे में जान सकते हैं – जैसे- गूगल पर किसी keyword को सर्च करने पर हमारे वेबसाइट कितने बार क्लिक हो रही है, साथ ही किस keyword सर्च करने पर हमारी वेबसाइट की एवरेज रैंक कितनी आ रही है, और हमारे कितने पोस्ट गूगल इंडेक्स हो चुके हैं| गूगल सर्च कंसोल को यूज़ करना बहुत ही आसान है । आइए हम इसे स्टेप बाय स्टेप यूज़ करना सीखे |

  • Search concole पर अपनी propproperty add करे

सबसे पहले आप सर्च कंसोल ओपन करें उसके बाद ऐड प्रॉपर्टी बाले ऑप्शन पर क्लिक करें,इसके बाद आप अपने website का URL डाले इसके बाद उसे सबमिट कर दे फिर आप अपने वेबसाइट की डीटेल्स चेक करें और वेरीफाई करने के लिए वेरीफाई वाले बटन पर क्लिक करें

  • इसके नीचे कुछ टेक्निकल जानकारी दी होंगी टेक्निकल जानकारी को use करने के लिए आप अपने डेवलपर की मदद ले ।

Search concole जब आप सर्च कंसोल को ओपन करेंगे तो लेफ्ट साइड कुछ ऑप्शन आएंगे ऑप्शन का यूज करना बहुत ही आसान है इनमें से कुछ महत्वपूर्ण निम्नलिखित-

Peroformnce – peroformnce यह सर्च कंसोल का सबसे मुख्य भाग है ।जो आपके साथ साइड के ट्राफिक के बारे में सारी जानकारी देता है ।जब आप ऑप्शन पर क्लिक करेंगे तो आपको तीन चीज दिखाएं देखेगी

Total click– total click ऑप्शन पर आपको यह पता चलेगा कि आपके वेबसाइट का रिजल्ट पेज पर देख कर आपकी वेबसाइट पर कितने लोगो ने क्लिक किया है या यह भी कह सकते हैं की कितने लोग आपकी वेबसाइट पर जाने के लिए इंटरेस्टेड है।

Total impressions – total impressions इस ऑप्शन में यह बताया जाता है कि आपकी वेबसाइट का नाम सर्च इंजन रिजल्ट पेज पर कितने बार दिखाई दे रहा है।

Average CTR – CTR का फुल फॉर्म click through rate, इसमें यह जरूरी नहीं कि कितने क्लिप हुए इतने विजिट भी होंगे,इसके बहुत सारे कारण है। जैसे स्लो स्पीड इंटरनेट, खराब इंटरनेट कनेक्शन, इस तरह की जानकारी total click ऑप्शन से ज्यादा Average ctr बेहतर जानकारी देता है.

Keyword wise इस मे click और CTR बताई जाती हैं इसका मतलब यह है कि जो की-वर्ड यूज़र सर्च करते हैं तो उसकी की वजह से हमारी वेबसाइट पर कितने लोगों ने विजिट किया है

Coverage – पहले स्टेप में हमने आपको यूजर्स द्वारा हमारी वेबसाइट पर विजिट के बारे में बताया पर यह coverage tab हमें गूगल अपने हिसाब से जानकारी देता है जब गूगल हमारी साइट पर विजिट करता है। तो उसको क्या परेशानी है। यह एक प्रकार की रिपोर्ट होती है,इस रिपोर्ट में गूगल यह बताता है कि गूगल में हमारे कौन से page index किए हैं, और कौन से page index नहीं किये index ना करने के कारण यह सब जानकारी गूगल अपनी रिपोर्ट में यानी कि Coverage में जानकारी देता है।

Errors – Errors इस मे गूगल उन pages की मात्रा बताता है ।जिन्हे errors की बजह से गूगल ने undex नही किये।

Errors but indexed – Errors but indexed इस मे गूगल उन pages की मात्रा बताता है। जिनमे छोटी सी गलती होती है ,और गूगल ने फिर भी उन pages का index कर लिया है।

Valid pages – Valid page इस मे गूगल उन pages की मात्रा बताता है ।जिन्हे index करते time गूगल को कोई errors की परेशानी नहीं हुए, हमारी website पर pages अच्छी तरह देख रहे हैं कोई परेशानी नहीं है जिन्हें गूगल ने इंटेक्स क्या है.

Excluded– Excluded उन pages का होता है ।जो गूगल ने जान-बूझकर index नहीं किए ,इनमें कोई errors नहीं होता है।बल्कि intentionally exclude किये जाते हैं।

Sitemap – इसमें हम add sitemap बाले ऑप्शन से हम अपने site ka sitemap add कर सकते है। उसके बाद गूगल आपको बताएगा कि आपके साइड के कितने यूआरएल सम्मिट हुए हैं। और साथ ही कितने URL Google से index कर पाया हैं।

Mobile usausability – इस मे आज कल Internet use काफी बड़ रहा है ,तो इस मे आप अपने mobile से site पर visit करना कितना आसान है

इस से जुड़े कुछ टॉपिक है:-

  • User friendly page – user friendly page इस मे यह बताया गया है ,की आपकी site के कौन से page आपके user के mobile मे आसानी के खुल रहे है ।को भी परेशानी नही होती है।
  • Large size page – large size page इस मे यह बताया गया है ।मोबाइल की छोटी स्क्रीन पूरी दिखाई नही देता है, उनको स्क्रॉल कर के देखना होता है ।यह size user friendly नही होती है।
  • छोटी font – users होकर अपने भी देखा होगा की कुछ sites जो destop पर अच्छी चलती है। मगर mobile मे open करने पर font size बिगड़ जाते है और काफी परेसानी होती है.  इसलिए जब आप अपनी website design करते time ये ध्यान दे की आपकी website destop users or mobile users दोनो को को प्रॉब्लम ना हो क्योंकि आज कल mobile users ज्यादा है।

LINK🔗 – इस मे आपको आपकी site से जुड़ी LINK ke बारे मे जानकारी मिलती है। इसके 3 भाग है:-

  • External links – external link ये हमारे website से बहार जाने बाली link को कहते है। यह link अच्छी authority website को जानी चाहिए।
  • internal link – internal link ये हमारी website के अंदर ही दूसरे पोस्ट किये जाने बाली link कहते हैं।
  • Top linking sites – top linking sites ये sites की list होती हैं ,जो अपने contact मे हमे backlinks देते है। हमने starting मे SEO तकनीकी बाले lesson मे backlink के बारे मे सिखा था और यह समझा था की SEO कितना important है । इस मे आप बो site को देख ते है जो link back करती है – इस site की quality, , backlinks के keyword और traffic जैसी चीजे ज्यादा important है, इस लिए आप इन पर ज्यादा काम करे

Setting-

setting के बारे में आप सभी जानते हैं जैसे आप अपने फोन को अपने हिसाब से सेटिंग करके चलाना पसंद करते हैं, वैसे – ही आप अपनी वेबसाइट को अपने अकॉर्डिंग सेटिंग करके चला सकते हैं यह सेटिंग ऑनर के ऊपर डिपेंड करता है कि वह अपनी साइड की सेटिंग कैसी करना चाहता है और ओनरशिप किसके पास है यह डिटेल्स अपडेट कर सकते हैं ।

Search consol use के फ़जयदे – अभी तक की सारी जानकारी के हिसाब से देखा जाए तो Search consol use करने ज्यादा बेहतर है

  • Search consol use करने से आप अपने वेबसाइट के पेज के indexing errors को देख सकते हैं और उसे सुधार सकते हैं।
  • Search consol use करने से आप उन वेबसाइट को देख सकते हैं जो आपको बैकलिंक करते हैं।
  • Search consol use करने से उसके द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार आप अपनी वेबसाइट के मोबाइल यूजेस के लिए काफी सारे फीचर्स बढ़ा सकते हैं।
  • अपनी साइड को यह देख सकते हैं कि गूगल पर कैसे कार्य कर रही है इसकी रेटिंग कितनी आ रही है।
Conclusion –

Tool का इस्तेमाल करना काफी लाभदायक और फायदेमंद है Search consol इंस्टॉल करने के बाद आपको कंक्लूजन मे छोटी और बड़ी महत्वपूर्ण जानकारी गूगल द्वारा दी जाती है इसके अकॉर्डिंग अपनी website की सेटिंग करें जिससे आप की साइट rank ऊंचा हो जाये।

आपने इस पोस्ट में Google Search Console Kya Hai ? , इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर ली है ,अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगे तो यह पोस्ट आप अपने दोस्तों को भी शेयर करें ।

Questions & Answer:
Jyada Meetha Khane Se Kya Hota Hai और Jyada Meetha Khane Ke Fayde और Nuksan क्या हैं

ज्यादा मीठा खाने से क्या होता है – Jyada Meetha खाने के फायदे और नुकसान

HealthKya Kaise
Zinc Ki Kami Se Kya Hota Hai और सबसे ज्यादा जिंक किसमें पाया जाता है

Zinc की कमी से क्या होता है, फायदे नुक्सान, किसमें पाया जाता है, Tablet

Health
Ekadashi Vrat Karne Se Kya Hota Hai और Ekadashi Vrat Kaise Karte Hain

एकादशी व्रत करने से क्या होता है – कैसे करते हैं, नियम, फायदे नुक्सान

Kya Kaise
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *