Iodine क्या होता है – Iodine की कमी से क्या होता है

इस पोस्ट में हम जानेंगे की Iodine Kya Hota Hai और Iodine Ki Kami Se Kya Hota Hai साथ ही जानेंगे ज्यादा Iodine आपकी सेहत के लिए कैसा है.

Iodine Kya Hota Hai - Iodine Ki Kami Se Kya Hota Hai

साथ ही पोस्ट में जानेंगे ज्यादा Iodine लेने की कीमत आपको कितनी भारी पड़ सकती है. इन सब के बारे में Iodine Ki Kami Se Kya Hota Hai पोस्ट में विस्तार से जानेंगे.

Iodine Kya Hota Hai

आयोडीन एक तरह का रासायनिक तत्व होता है. आयोडीन हमारे आहार के प्रमुख पोषक तत्वों में पाए जाने वाला एक तत्व है. आयोडीन की सही मात्रा शरीर में होना अत्यंत आवश्यक है, क्योंकि आयोडीन की कमी के कारण कई तरह के रोगों का सामना करना पड़ता है.

आयोडीन की कमी का असर शिशु के जन्म होने से पहले ही उस पर पड़ने लग जाता है. अगर कोई माता गर्भावस्था के दौरान भोजन में पर्याप्त मात्रा में आयोडीन की मात्रा नहीं लेती है, तो उसके शिशु का विकास रुक जाता है और उनका बच्चा सीखने की कमजोर क्षमता के साथ पैदा होता है. आयोडीन की कमी के कारण बच्चों का बौद्धिक स्तर 10 से 15% कम हो सकता है.

इसलिए शरीर में आयोडीन की मात्रा का पर्याप्त होना आवश्यक होता है. आयोडीन की मात्रा को संतुलित बनाए रखने के लिए हम आयोडीन से भरपूर तत्वों जैसे- नमक, अनाज, दालें, आलू, दूध, मुनक्का, दही, ब्राउन राइस, सी-फूड, लहसुन, मशरूम, पालक आदि का उपयोग करते रहना चाहिए.

Iodine Ke Srot

आयोडीन की मात्रा को कई स्रोतों की मदद से पूरा किया जा सकता है. आयरन की कमी को पूरा करने के लिए हमें आयोडीन से भरपूर चीजों का उपयोग अपने खान-पान में लाना चाहिए. आयोडीन की कमी को पूरा करने के लिए सामान्य रूप से अनाज एवं सब्जियां ही पर्याप्त होती है, लेकिन इसके अतिरिक्त भी कई और स्त्रोत है जिनसे हम आयोडीन की कमी को पूरा कर सकते हैं जैसे- नमक, अनाज, दालें, आलू, दूध, मुनक्का, दही, ब्राउन राइस, सी-फूड, लहसुन, मशरूम, पालक आदि.

Iodine Ki Khoj Kisne Ki

आयोडीन की खोज सर्वप्रथम 1811 में Bernard Courtois नामक एक फ्रांसीसी रसायनज्ञ ने की थी. आयोडीन की खोज तब हुई, जब Bernard Courtois समुद्री शैवाल से पोटेशियम और सोडियम निकाल रहे थे.

Iodine Se Kya Hota Hai

आयोडीन एक पोषक तत्व है, जो मुख्य रूप से हमारे शरीर में थायराइड नामक रसायन बनाने के लिए आवश्यक होता है. थायराइड ही शरीर के संपूर्ण विकास को नियंत्रित करता है. इसलिए अगर हमारे शरीर में आयोडीन की मात्रा पर्याप्त है तो शरीर के विकास में कोई बाधा नहीं आएगी.

इसके अतिरिक्त श्वास लेने और ह्रदय की गति से लेकर, शरीर की अन्य मांसपेशियों को शक्ति तक पहुंचाने का काम आयोडीन करता है. गर्भावस्था के दौरान अगर कोई महिला पर्याप्त मात्रा मे आयोडीन युक्त भोजन नहीं करती हैं तो इसका असर नवजात शिशु पर पड़ता है, जिसके कारण वह जन्म से ही शारीरिक और मानसिक तौर पर कमजोर पैदा होता है.

Iodine Ki Kami Kaise Puri Kare

शरीर में आयोडीन की पर्याप्त मात्रा होना आवश्यक है क्योंकि आयोडीन एक महत्वपूर्ण तत्व है जिसके कारण हमें कई बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, ये हमारे शरीर को प्रभावित भी कर सकते हैं.

इसलिए अगर शरीर में आयोडीन की कमी है तो ऐसे तत्वों का उपयोग करें जो आयोडीन से भरपूर हो, ऐसे खाद्य पदार्थों या तत्व का उपयोग करके आप शरीर में आयोडीन की कमी को पूरा कर सकते हैं. कुछ आयोडीन युक्त तत्वों के नाम- नमक, अनाज, दालें, आलू, दूध, मुनक्का, दही, ब्राउन राइस, सी-फूड, लहसुन, मशरूम, पालक आदि.

आयोडीन की कमी से कौनसा रोग होता है

आयोडीन की कमी से होने वाले रोग निम्नलिखित है:-

  • घेंघा
  • विकलांगता
  • बच्चे का मृत पैदा होना
  • Height कम होना अर्थात बौनापन
  • शारीरिक विकास में रुकावट होना
  • नवजात का जन्म से कमजोर होना
  • काम करने में थकावट एवं कमजोरी होना
Iodine Ka Formula

आयोडीन को [I] से प्रदर्शित किया जाता है, एवं आयोडीन का सूत्र I2 होता है. आयोडीन की परमाणु संख्या 53 होती है. आवर्त सारणी के अनुसार इसे हैलोजन तत्व कहा जाता है.

Iodine Ka Sutra

आयोडीन को I से प्रदर्शित किया जाता है, एवं आयोडीन का सूत्र I2 होता है. आयोडीन की परमाणु संख्या 53 होती है. आवर्त सारणी के अनुसार इसे हैलोजन तत्व कहा जाता है.

Iodine Kisme Hota Hai

आयोडीन युक्त तत्वों के नाम:

नमक, अनाज, दालें, आलू, दूध, मुनक्का, दही, ब्राउन राइस, सी-फूड, लहसुन, मशरूम, पालक आदि आयोडीन के बहुत अच्छे स्रोत है. अंडा और मांस में भी कुछ मात्रा में आयोडीन पाया जाता है.

Iodine Kisme Paya Jata Hai

आयोडीन एक रासायनिक तत्व है जो हमारे आहार के प्रमुख पोषक तत्वों में से एक है. इसलिए यह हमारे लिए बहुत उपयोगी है, और इसकी सही मात्रा भी हमारे शरीर के लिए आवश्यक है.

अगर किसी व्यक्ति में आयोडीन की कमी होती है तो वह नमक, अनाज, दालें, आलू, दूध, मुनक्का, दही, ब्राउन राइस, सी-फूड, लहसुन, मशरूम, पालक आदि का उपयोग कर सकता है, क्योंकि इन सभी तत्वों में आयोडीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है.

Iodine Ka Atomic Number

आयोडीन एक प्रकार की चमकीली सिलेटी धातु होती है, जिसे सामान्य तौर पर I से प्रदर्शित किया जाता है. आयोडीन की परमाणु संख्या 53 होती है.

Iodine Ka Atomic Mass

आयोडीन एक प्रकार की चमकीली सिलेटी धातु होती है, जिसे सामान्य तौर पर I से प्रदर्शित किया जाता है. आयोडीन का परमाणु भार 126.90447 u होता है.

Iodine Ke Fayde

आयोडीन हमारे शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व है, इसलिए इसकी सही मात्रा शरीर में होना जरूरी है. आयोडीन की सही मात्रा होने पर शरीर को कई तरह के फायदे होते हैं जो निम्नलिखित है:-

  • आयोडीन शरीर में थायराइड नामक रसायन बनाता है, जो शरीर के समग्र विकास को नियंत्रित करता है.
  • आयोडीन की सही मात्रा अजन्मे बच्चे के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को नियंत्रित रखता है.
  • आयोडीन कैंसर कोशिकाओं के सिकुड़ने और मृत्यु में मदद करता है.
  • आयोडीन कमजोर नाखूनों को मजबूत करता है.
  • चयापचय क्रियाओं को विनियमित करता है.
  • प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है.
Iodine Ke Karya
  • थायराइड नामक रसायन को बनाना.
  • चयापचय क्रियाओं को विनियमित करना.
  • मस्तिष्क की सही वृद्धि एवं विकास करना.
  • शरीर के कई महत्वपूर्ण हार्मोन्स को नियंत्रित करना.

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट Iodine Kya Hota Hai और Iodine Ki Kami Se Kya Hota Hai पसंद आई होगी.

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर कर दीजिए और इस आर्टिकल से जुड़ा कोई भी सवाल हो तो उसे आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के पूछ सकते हैं.

Questions & Answer:
चुना खाने से क्या होता है - चूना से आयुर्वेदिक इलाज

चुना खाने से क्या होता है – चूना से आयुर्वेदिक इलाज

Kya Kaise
ITI Se Kya Hota Hai और ITI Ka Paper Kaisa Hota Hai

ITI Se Kya Hota Hai – आईटीआई कैसे करें,ITI की पूरी जानकारी,Form,Scholarship

EducationJobKya Kaise
12th Maths Ke Bad Kya Kare

12th के बाद क्या करे-12th के बाद कोंसी job करे,12 के बाद क्या करे Science,Maths वाले

EducationJob
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *