Jaitun के तेल से क्या होता है, Olive Oil कैसे बनता है, फायदे नुक्सान, तरीका

आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कि Jaitun Ke Tel Se Kya Hota Hai और Olive Oil Kis Se Banta Hai साथ ही जानेंगे की जैतून का तेल किस काम आता है और जैतून का तेल के फायदे क्या है.

Jaitun Ke Tel Se Kya Hota Hai और Olive Oil Kis Se Banta Hai

साथ ही पोस्ट में जानेंगे जैतून का तेल गरम होता है या ठंडा  है और जैतुन का तेल लिंग पर लगाने के फायदे. इन सबके के बारे में इस पोस्ट में विस्तार से जानेंगे.

Olive Oil Kya Hota Hai

Olive Oil एक तरह का ऑयल होता है जिसके शरीर और त्वचा से जुड़े कई तरह के फायदे होते है. यह जैतून के बीजो को पीसकर बनाया जाता है. यह विटामिन, मिनरल्स और एंटीऑक्सीडेंट से युक्त होता है.

Jaitun Ka Tel Kaise Banta Hai

जैतून नामक एक प्रकार का फल होता है. इस फल के द्वारा ही जैतून का तेल बनाया जाता है. जैतून के फल  को दबाकर भी निकाला जा सकता है पर आजकल इसके स्थान पर मशीन का उपयोग किया जाने लगा है.

वह जैतून या ओलिव जिसमे तेल प्रचुर मात्रा में होता है उस पेड़ का वानस्पतिक नाम ओलीआ यूरोपीआ होता है.

Jaitun Ke Tel Se Kya Hota Hai

जैतून का तेल आज कल कई जगह इस्तेमाल किया जाता है. जैतून का तेल न केवल खाना बनाने में प्रयोग होता है बल्कि इसका इस्तेमाल कई जगह जैसे चेहरे के लिए, बालो के लिए एवं अन्य जगह भी इस्तेमाल किया जाता है.

जैतून का तेल ना केवल स्वास्थ्य के लिए अच्छा है बल्कि इसके और भी कई फायदे है यह औषधीय गुणों से युक्त होता है. जैतून के तेल में नींबू का रस मिलाकर पीने से यह कब्ज की समस्या से आराम दिलाता है. इसके अलावा आँखों की रौशनी बढाने में भी यह बहुत लाभदायी है.

इसके अलावा भी जैतून का तेल त्वचा एवं इससे सम्बंधित बीमारियों के निवारण में भी बहुत उपयोगी है. इसका उपयोग किल-मुहांसों को दूर करने में, त्वचा की रंगत निखारने में, त्वचा को कोमल व माइस्चराइज करने में भी काम आता है.

Olive Oil Kis Se Banta Hai

आपको बता दे की जैतून के तेल को Olive Oil भी कहते है इसलिए जैतून और ओलिव ऑयल में कंफ्यूज ना हो. अब बात करते है की Olive Oil किस से बनता है. यह हरे ओलिव यानि जैतून से बनता है.

जैतून का तेल कई तरह का होता है. अगर आपको एक्स्ट्रा वर्जिन Olive Oil चाहिए तो आप उसे हरे जैतून को दबाकर भी निकाल सकते है. वही अगर बात करे खाना बनाने वाले ओलिव ऑयल की तो उसे बनाने का तरीका अलग होता है.

खाना बनाने वाला ओलिव ऑयल हरे रंग के olive को पकाकर बनाया जाता है. इस तेल में कई तरह के गुण होते है, इसीलिए आजकल यह तेल हर जगह देखने को मिल जाता है.

Jaitun Ka Tel Lagane Se Kya Hota Hai

जैतून का तेल स्वास्थ्य के अलावा बालो की  एवं त्वचा की देखभाल में भी उपयोग किया जाता है. अगर आप जैतून का तेल अपनी त्वचा पर लगाते है तो यह उसे कोमल एवं मुलायम बना के रखता है. इसके प्रयोग से आपको किल मुहांसों एवं झुर्रियो की समस्या से काफी हद तक छुटकारा मिल सकता है इसके साथ ही यह त्वचा को निखारने में भी फायदेमंद होता है.

वहीँ जैतून के तेल का उपयोग बालों में होने वाली समस्या के निवारण में भी किया जाता है. इसके उपयोग से न केवल आपके बाल घने एवं काले रहते है बल्कि यह आपके बालो को बढाने में भी उपयोगी है. बालो में रुसी या डैन्ड्रफ की समस्या में भी इसका उपयोग किया जाता है. यह पेट की चर्बी कम करने में भी सहायक है.

Jaitun Ka Ped Kaisa Hota Hai

जैतून का पेड़ बहुत ही खुबसूरत होता है. यह एक सदाबहार पेड़ होता है बिलकुल हरा भरा. इसकी सबसे खास बात यह है की यह किसी भी प्रकार की मिट्टी में उगने में सक्षम होता है. जैतून का पेड़ 50 डिग्री से लेकर माइनस 7 डिग्री तक का तापमान सहन करने में सक्षम है.

इसकी पत्तियाँ छोटी छोटी हरी और बहुत सुंदर होती है. यह पेड़ मुख्य रूप से भूमध्यसागरीय क्षेत्र में अधिक पाया जाता है जैसे स्पेन, अर्जेंटीना, इटली, ग्रीस और दक्षिण अमेरिका में यह अधिक संख्या में मोजूद है.

Jaitun Ka Tel Ke Fayde

जैतून के तेल की मालिश करने से पेट की चर्बी कम होती है इसके साथ अगर आप इसे त्वचा पर लगाते है तो इससे आपकी त्वचा निखरती है. इसका इस्तेमाल कब्ज जैसी समस्या को ख़तम करने में भी किया जाता है.

यह आपके बालो को रुसी से बचाता है साथ ही आपके बालो को लम्बे समय तक काला रखने में भी उपयोगी है. जैतून के तेल की मालिश अपने लिंग पर करने से आपका लिंग बड़ा व कठोर होता है जिससे आप लम्बे समय तक सेक्स का मजा ले पाएंगे.

Jaitun Sirka Ke Fayde

जैतून का सिरका शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है. इसका सेवन करने से आपका कोलेस्ट्रोल भी नियंत्रण रहता है साथ ही यह डायबिटीज जैसी बीमारी को नियंत्रण करने में काफी फायदेमंद होता है. रोज सुबह खाली पेट एक चम्मच सिरका का सेवन आपके पाचन को स्वस्थ और मजबूत बनाता है.

Jaitun Ka Tel Kis Kaam Aata Hai

जैतून का तेल खाना बनाने के अलावा भी कई कामो में किया जाता है. आजकल इसका उपयोग त्वचा सम्बंधित समस्याओं के निवारण के अलावा बालो की समस्याओं में भी किया जाता है. कब्ज एवं पाचन की समस्या के निवारण में भी जैतून का तेल बहुत उपयोगी साबित होता है.

Jaitun Ka Tel Ling Par Lagane Ke Fayde

जैतून का तेल लिंग पर लगाने से लिंग को कई जरुरी पोषक तत्व मिलते है जिससे आप अच्छी तरह से सेक्स कर पाते है. जैतून के तेल से अगर आप लिंग पर रोजाना मालिश करते है तो इससे आपका लिंग तनाव महसूस करता है व आप अच्छी तरह से लंबे समय तक सेक्स कर पाते है. इसके नियमित इस्तेमाल से आपका लिंग बड़ा एवं मजबूत होता है जिससे आप बेहतर तरीके से सेक्स कर पाते है.

Olive Oil Balo Ke Liye

ओलिव ऑयल बालो में लगाने से बालो को काफी फायदा होता है. यह रुसी एवं डेन्ड्रफ को कम करता है. ओलिव ऑयल के बालो में इस्तेमाल करने से यह बालो को काला एवं घना बनाता है. यह आपके बालो के झड़ने की समस्या में भी बहुत प्रभावी है व इसे काफी हद तक कम कर देता है.

Jaitun Ka Tel Kaisa Hota Hai

जैतून का तेल जैतून के फल से बनने वाला एक तरह का तेल होता है जो कई तरह के औषधीय गुणों और पोषक तत्वों से युक्त होता है. यह स्वास्थ्य के साथ-साथ शरीर के लिए भी फायदेमंद होता है.

Jaitun Ka Tel Thanda Hota Hai Ya Garam

जैतून का तेल ठंडा होता है गरम नहीं. इसलिए गर्मियों के दिनों में इस तेल से मालिश भी की जाती है.

Jaitun or Olive – FAQs
Jaitun Ka Fal Kaisa Hota Hai

जैतून का फल लगभग एक अंडे के आकार का फल होता है जैतून को अंग्रेजी भाषा में ओलिव कहते है. यह दो तरह का होता है: 1. काला जैतून और 2. हरा जैतून

Olive Oil Kaisa Hota Hai

 जैतून का तेल या ओलिव ऑयल सेहत के साथ साथ अन्य कामो में भी उपयोगी होता है. इसमें कई तरह के औषधीय गुण होते है जो सेहत के साथ साथ त्वचा के लिए भी बहुत उपयोगी होते है. इसकी तासीर ठंडी होती है.

Jaitun Kya Hota Hai

जैतून एक काले एवं हरे रंग का फल होता है जिससे तेल निकलता है. इस तेल को जैतून का तेल या Olive Oil नाम से जानते है.

Olive Oil Kaise Banta Hai

Olive Oil हरे ओलिव की मदद से बनाया जाता है. यह एक तरह का फल होता है जो ओलिव ऑयल से युक्त होता है. इसकी मदद से ही ओलिव ऑयल बनाया जाता है.

Olive Oil Khane Ke Fayde

ओलिव ऑयल हमारे शरीर के लिए बहुत उपयोगी है. यह हमारे शरीर की इम्युनिटी बढाने में भी फायदेमंद है साथ ही यह कोलेस्ट्रोल को भी नियंत्रित करता है. ओलिव ऑयल से बना खाना आपके हार्ट के लिए अच्छा होता है एवं यह आपका वजन कम करने में भी सहायक है.

Jaitun Ka Tel Garam Hota Hai Ya Thanda

जैतून की तासीर ठंडी प्रवर्ती की होती है अर्थात यह ठंडा होता है इसलिए इसका ज्यादातर इस्तेमाल गर्मी में किया जाता है.

जैतून का तेल 100 ग्राम कितने का है

ऑनलाइन ई-कॉमर्स वेबसाइट जैसे Amazon पर भी यह उपलब्ध है. 1 लीटर ओलिव आयल की कीमत 600 रुपये है. आप चाहे तो इसे बाजार से किसी भी दुकान से खरीद सकते है.

Jaitun Ka Tel Kya Hota Hai

जैतून का तेल (Olive Oil) जो जैतून के पेड़ का एक फल होता है जिससे यह तेल प्राप्त होता है. जैतून को अच्छी तरह दबाकर या पीस कर यह तेल प्राप्त होता है. यह पेड़ भूमध्यसागरीय क्षेत्र में बहुत ज्यादा पाए जाते है.

जैतून का तेल पतंजलि Price

पतंजलि ब्रांड जैतून का तेल 60 रुपये में 100 ml आता है. आप चाहे तो इसे पतंजलि की ऑफिसियल वेबसाइट से जाकर भी खरीद सकते है.

Jaitun Ka Sirka Kis Kaam Aata Hai

जैतून का सिरका पाचन में सहायता करता है. यह भोजन और सलाद ड्रेसिंग के काम भी आता है.

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट Jaitun Ke Tel Se Kya Hota Hai और Olive Oil Kis Se Banta Hai पसंद आया होगा.

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगो के साथ share कर दीजिए. और इस पोस्ट से जुड़ा कोई भी सवाल हो तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं

Questions & Answer:
Compass Kise Kahate Hain और Compass Ka Avishkar Kisne Kiya

Compass किसे कहते हैं – Compass कैसे देखते है, प्रकार, आविष्कार

Avishkar
Gravity Kya Hoti Hai और Gravity Ka Avishkar Kisne Kiya

ग्रेविटी क्या होती है – Gravity का आविष्कार किसने किया, सार्वत्रिक नियम और सूत्र

Avishkar
Nasha Karne Se Kya Hota Hai और नशा छोड़ने के बाद क्या होता है

नशा करने से क्या होता है – छोड़ने के बाद, घरेलु उपाय, नुकसान, शराब का नशा

Kya Kaise
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *