Spinner से क्या होता है – Spinner Ball क्या होता है

इस Article में आज हम जानेंगे कि Spinner Se Kya Hota Hai और Spinner Ball Kya Hota Hai साथ ही हम जानेंगे Spinner कैसे बनाते है, Spinner Ball फेंकने के तरीके, Spinner को इस्तेमाल करने के फायदे इत्यादि.

Spinner Se Kya Hota Hai और Spinner Ball Kya Hota Hai

Spinner Ball Kya Hota Hai

वह गेंदबाज जो बॉल  को धीमी गति से या स्पिन गेंदबाजी करता है उसे  स्पिनर गेंदबाज कहते है. स्पिन गेंद बाजी क्रिकेट की सबसे पुरानी कलाओं में से एक है जो कि गेंद से बल्लेबाज को घूमने पर मजबूर करती है.

इस तकनीक से किसी भी बल्लेबाज को आसानी से घुमाया जा सकता है. गेंद को कही तरह से  दिशा परिवर्तन कराते है जो की बल्लेबाज के लिए कठिन परिस्स्थिति होता है.

Spinner Ball Se Kya Hota Hai

स्पिन गेंदबाज गेंद को घुमाकर बल्लेबाज को परेशान करते है, इस कला में गेंदबाज दुनिया के बड़े से बड़े बल्लेबाज को अपनी गेंदों के साथ घूमने को मजबूर कर देते है, और बल्लेबाज को अपने इस जाल में फ़साने की अहम् भूमिका होती है.

जिससे सामने वाली टीम के  बल्लेबाजों  पर शिकंगा कसा जाये .जिससे गेंदबाज अपनी टीम के लिए बड़ी सफलता आसानी  से मिल जाए.

Spinner Ball Ka Matlab

वह गेंदबाज जो बल को धीमी गति से या स्पिन गेंदबाजी करता है, गेंद को सीधे न डालते हुए गेंद को दिशा परिवर्तन कराते है. जिससे बल्लेबाज को आसानी से घुमाया जा सके.

गेंद को धीमी  गति से किया  जाता है  जिसमें गेंद की गति 80 से 90 किलोमीटर की प्रति घंटा के हिसाब से गेंद को डाला जाता है.

Spinner Ball Kaise Dalte Hain

स्पिनर बॉल को डालते समय अपने हाथ में गृप का सबसे बड़ी अहम भूमिका होती है. स्पिन बोलिंग की टेक्निक भी दो तरह की होती है एक फिंगर स्पिन और दूसरी रिस्ट स्पिन जो की कलाई का इस्तेमाल कर  गेंद को स्पिन कराना,

बॉल को क्रॉस में पकड़े  जब की सिलाई के ऊपर से न पकड़े बल्कि सिलाई को क्रॉस में पकड़ते है तो  उसे क्रॉस सीम कहते है. इस तरह से पकड़ने से बॉल हाथ से फिसलती नहीं जिससे स्पिन करने में आसानी होती है.

लेग स्पिन बोलिंग डालते समय जितना हो सके सिंपल रखें और स्मूथ रन अप करना चाहिए, जिससे लेग स्पिन बॉल डालते समय गेंदबाज गेंद को  गृप करते समय अंघूठे और इंडेक्स फिंगर के बीच गैप न रखें. वह गैप ऑफ स्पिन, बोलिंग गृप के लिए बहुत जरुरी माना जाता है. यह गैप लेग स्पिन बॉल के लिए सही नही होता .

Spinner Kaise Banate Hain

स्पिनर के आकार को किसी  कार्डबोर्ड या फोम पर ट्रेस करें. अपने चुने हुए स्पिनर स्टेंसिल को  काटें और इसे मोटे कार्डबोर्ड या फोम बोर्ड पर रखें और चारों और

ट्रेस करने के लिए पेन या पेंसिल का उपयोग करें , साबधान रहें इसे आप जैसे भी खीचतें हैं , तो स्थानातरित न करें .आपके द्वारा चुना गया बोर्ड (1 .3  से. मी.) से कम मोटा होना चाहिए जिससे यह टिकाऊ और मजबूत होगा जबकि एक हाथ से पकड़ने में भी आसानी होगी और इसे काटने के लिए कैँची या धारदार चाकू का उपयोग कर सकते है अपने स्पिनर के आगे पीछे प्रिंटर पेपर को चिपका सकते है जिससे वह देखने में अति सुन्दर दिखाई देगा .

स्पिनर बेस के बराबर दोनों सिरों को माप ले तभी बीच में  टूथपिक से  छेदें. छेद को चौड़ा करने के लिए टूथपिक को चारो ओर घुमाएँ छेद को ज्यादा चोंडा न हो जिससे स्पिनर घुमाने में दिक्कत ना हो. इसके बाद दोनों सिरों पर बजन को गोंद दे जिससे तेजी से स्पिनर को घुमाया जाए इस तरह से आप स्पिनर को बना सकते है .

Spinner Kaise Chalate Hain

स्पिन बॉल को चलने के लिए गेंदबाज गेंद को अपने हाथ में अच्छी तरह गृप बनाते है. जिससे गेंद को ठीक जगह पर उछाल हो और दिशा परिवर्तन हो और बल्लेबाज को गेंद पूर्णरूप से चकमा दिया जाए और आसानी से विकेट लेने में मदद मिले.

Spinner Ke Fayde

जो बल्लेबाज तेज गेंद को खेलने में सक्षम होता है उसके लिए स्पिन गेंदबाज से गेंदबाजी करबाते है जिससे वह बल्लेबाज स्पिन गेंदबाज की गेंद पर घूम जाये और उसे आसानी से फसाया जा सकता है जिससे टीम पर दबाब न बड़े और आसानी से उस बल्लेबाज को आउट किया जा सके.

Spinner Kise Kahate Hain

स्पिन बॉल करने का मुख्य उद्देश्य होता गेंद को पिच पर टिप्प खाने के  बाद किसी की दिशा में घुमाना होता है स्पिन गेंदवाजी में गति को मायने नहीं रखती गेंद को किसी भी दिशा में  एंगल बनाना  उद्देश्य  होता है.

स्पिन गेंदबाजी की गति 80  से 90 किलो मीटर प्रति घंटा के हिसाब से करना उचित माना गया है अगर इससे कम या ज्यादा गति से गेंदबाजी करते है तो  सही नहीं है क्योंकि ज्यादा स्लो में बल्लेबाज के लिए चहल कदमी करके पिच तक  पहुँच कर शॉट खेलना आसान हो जाता है.

स्पिनर कितने प्रकार के होते हैं 

स्पिनर 2 प्रकार के होते है

  1. लेग स्पिन गेंदबाजी
  2. ऑफ स्पिनर गेंदबाजी

लेग स्पिन को कलाई  के सहारे कराया जाता है और इसमें गेंद बाएँ हाथ क्ले बल्लेबाज के लिए अन्दर और दाएं हाथ के बल्लेबाज के लिए बाहर जाती है. बल्कि लेग  स्पिनर गेंदबाज से ऑफ़ स्पिनर गेंद बाजी पर बल्लेबाज पर विपरीत प्रभाव होता है और ऑफ़ स्पिनर गेंद बाजी के लिए बीच की ऊँगली को प्रयोग में लाया जाता है.

ऑफ़ स्पिनर को गेंदें दाएं हाथ के बल्लेबाज के लिए अन्दर तो वहीँ बाएँ हाथ के बल्लेबाज के लिए बाहर जाती है. ऑफ़ स्पिनर का घातक हथियार कैरम बॉल को माना जाता है, इस गेंद को फैकने के लिए गेंद को अंगूठे, तर्जनी और मध्यमा उगली के बीच फंसाना  होता है.

गेंद को साधारण तरीके से छोड़ने  की बजह  कैरम की तरह फ्लिप करता है .जो कि बल्लेबाज को घुमाने में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है .

उम्मीद है आपको यह Article Spinner Se Kya Hota Hai और Spinner Ball Kya Hota Hai पसंद आया होगा.

अगर आपको पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें ताकि वह भी इसके बारे में जान सकें एवं आपको किसी भी तरह का कोई सवाल आए तो आप नीचे दिए Comment बॉक्स की मदद से हमसे पूछ सकते हैं.

Questions & Answer:
Koyla Kaise Banta Hai और Koyla Khane Se Kya

Koyla कैसे बनता है – कोयला खाने से क्या होता है, Coal के फायदे और नुकसान

Kya Kaise
Latakne Se Kya Hota Hai और Latakne Ke Fayde

Latakne से क्या होता है – लटकने के फायदे, लटकने का सही तरीका, एक्सरसाइज

Health
Echo Test Se Kya Hota Hai और Echo Test Kaise Hota Hai

Echo Test से क्या होता है – फुल फॉर्म, इको टेस्ट कैसे होता है और क्या पता चलता है

Health
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *