Vitamin D से क्या होता है – Vitamin D के फायदे, नुकसान की पूरी जानकारी

इस पोस्ट में हम जानेंगे की Vitamin D Se Kya Hota Hai और Vitamin D Ke Fayde साथ ही जानेंगे Vitamin D आपकी सेहत के लिए कैसा है इसे किस तरह इसका सेवन करने से आपके शारीर के लिए काफी लाभदायक हो सकता है..

Vitamin D Se Kya Hota Hai - Vitamin D Ke Fayde

इन सब के बारे में इस पोस्ट में विस्तार से जानेंगे.

Vitamin D Se Kya Hota Hai

हमारे शरीर को स्वस्थ रहने के लिए वसा, प्रोटीन, विटामिन और कार्बोहाइड्रेट की एक पर्याप्त मात्रा आवश्यक होती है. विटामिन कई प्रकार के होते हैं जिनमें से एक होता है विटामिन डी. विटामिन हमारे शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाता है. जिन्हें निम्न बिंदुओं के आधार पर समझा जा सकता है.

Vitamin D Kya Hai

विटामिन कई प्रकार के होते हैं जैसे विटामिन A , विटामिन B, विटामिन C, विटामिन D, विटामिन K आदि. विटामिन हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत आवश्यक होते हैं. इसलिए इनकी शरीर में पर्याप्त मात्रा होना जरूरी होती है.

विटामिन डी दो प्रकार के होते हैं- विटामिन D2 और विटामिन D3. विटामिन डी मुख्य रूप से शरीर में हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करता है. साथ ही साथ यह इम्यूनिटी को भी बढ़ाता है.

शरीर में विटामिन डी की मात्रा को नियंत्रित करने के लिए विटामिन डी के कैप्सूल का इस्तेमाल किया जाता है. विटामिन डी के कैप्सूल के अतिरिक्त भी विटामिन डी की पूर्ति करने के कई उपाय होते हैं, जिनमें से यह भी एक है. विटामिन डी के कैप्सूल का उपयोग चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद ही करें.

Vitamin D Ke Srot

अंडा, मछली, दूध, दही, मक्खन, पनीर, मशरूम, ओट्स, बादाम, सोया मिल्क, संतरे का जूस, अनाज आदि विटामिन डी के महत्वपूर्ण स्रोत है जिनमें विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा मौजूद होती है. इसके अतिरिक्त विटामिन डी पाने का सबसे अच्छा स्रोत सूरज की किरणें होती है जिनमें विटामिन डी की कमी को पूरा करने का गुण होता है.

Vitamin D Ki Khoj Kisne Ki

हमारे शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए उपयोगी विटामिन डी की खोज 1922 में Elmer McCollum ने की थी। इस विटामिन को विटामिन डी नाम दिए जाने का कारण यह है कि इस विटामिन की खोज के कुछ समय पहले ही विटामिन A, B और C की खोज हो चुकी थी. इसलिए इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए इस विटामिन का नाम विटामिन D रखा गया.

Vitamin D Ka Rasayanik Naam

विटामिन D का रासायनिक नाम कैल्सिफेरॉल होता है।

Vitamin D Kisme Paya Jata Hai

विटामिन डी का सबसे अच्छा एवं प्राकृतिक स्त्रोत सूरज की किरणें हैं. सूरज की किरणों अर्थात धूप में पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी होता है. इसके अतिरिक्त कई अन्य स्त्रोत है, जो विटामिन डी की पूर्ती करते है. अंडा, मछली, दूध, दही, मक्खन, पनीर, मशरूम, ओट्स, बादाम, सोया मिल्क, संतरे का जूस, अनाज आदि में भी पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी होता है.

विटामिन डी शरीर में कितना होना चाहिए

एक स्वस्थ शरीर में विटामिन डी का स्तर 20-50  नैनोग्राम/मिलीलीटर(ng/ml) के भीतर होना चाहिये. 20 नैनोग्राम/मिलीलीटर से कम स्तर वाले लोगों में विटामिन डी की कमी होती है.

विटामिन डी से होने वाले रोग
  • वयस्कों में विटामिन डी की कमी से ऑस्टियोपोरोसिस(हड्डियों से संबंधित) नामक रोग होता है.
  • बच्चों में विटामिन डी की कमी से रिकेट्स नामक रोग होता है.

Vitamin D Capsule Ke Fayde

  • यह हड्डियों की Density एवं मजबूती को बढ़ाता है.
  • कैल्शियम के अवशोषण को बढ़ाता है.
  • रक्तचाप को नियंत्रित करता है.
  • मांसपेशियों को मजबूती देता है.
  • इम्यूनिटी को बढ़ाता है.
Vitamin D Kaise Milta Hai

विटामिन डी की प्राप्ति करने के लिए ऐसे स्त्रोत का उपयोग करें जिनसे हमें विटामिन डी प्राप्त हो. ऐसा करने के लिए हम दो तरीके अपना सकते हैं.

पहले तरीके के अनुसार हम सूर्य की किरणों से पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी लेकर इसकी पूर्ति करें और दूसरे तरीके के अनुसार विटामिन डी से युक्त खाद्य पदार्थों.

जैसे- अंडा, मछली, दूध, दही, मक्खन, पनीर, मशरूम, ओट्स, बादाम, सोया मिल्क, संतरे का जूस, अनाज आदि का सेवन करें.

Vitamin D Ke Capsule

शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए हमें कई विटामिंस और पोषक तत्वों की जरूरत होती है. विटामिन डी एक प्रकार का महत्वपूर्ण विटामिन है, जो शरीर को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है एवं जिसकी कमी होने के कारण शरीर को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

Vitamin D Ke Karya
  • शरीर को ऊर्जा प्रदान करना.
  • फेफड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में भी उपयोगी है.
  • हड्डियों के निर्माण में विटामिन डी भागीदार होता है.
  • हड्डियों, मांसपेशियों एवं दांतों को मजबूत बनाए रखना.
  • कैल्शियम और फास्फेट को सही तरह से अवशोषित करना.
विटामिन डी कब लेना चाहिए

जब आपको ऐसा लगने लग जाए कि आपमें विटामिन डी की कमी है अर्थात आपको विटामिन डी की कमी से होने वाली लक्षण दिखाई दे तो ऐसी स्थिति में आपको विटामिन डी लेना चाहिए इसके लिए आप विटामिन डी युक्त पदार्थो.

जैसे- अंडा, मांस, मछली, दूध, पनीर, दही, मशरूम, संतरा, अनाज आदि का उपयोग करना चाहिए. इसके अतिरिक्त धूप विटामिन डी का सबसे अच्छा स्त्रोत है, इसलिए प्रतिदिन निश्चित मात्रा में धूप लेने पर भी शरीर को विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा मिल जाती है.

विटामिन डी के फायदे और नुकसान

फायदे:

  • रक्तचाप को संतुलित करता है.
  • तनाव दूर करने में मदद करता है.
  • वजन कम करने में मदद करता है.
  • मधुमेह के खतरे को कम करता है.
  • हड्डियों को स्वस्थ एवं मजबूत बनाता है.
  • इससे बच्चों में फ्लू का खतरा कम हो जाता है.
  • शरीर को अवसाद से लड़ने के योग्य बनाता है.
  • गर्भावस्था के दौरान, शिशु को स्वस्थ रखने में मदद करता है.

नुकसान:

सामान्य तौर पर विटामिन डी शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है. लेकिन अगर शरीर में विटामिन डी की अधिकता हो जाए तो यह शरीर को नुकसान पंहुचा सकती है.

  • कमजोरी आ सकती है.
  • भूख में कमी आ जाती है.
  • अनिद्रा की समस्या हो सकती है.
  • हड्डियां मांसपेशियां कमजोर हो सकती है.
  • कैल्शियम का स्तर बढ़ सकता है, जो गुर्दे की बीमारी का कारण बन सकती है.
Vitamin D Ki Kami Ke Lakshan
  • बच्चों में रिकेट्स रोग का होना.
  • जोड़ो और हड्डियों में दर्द होना.
  • डायबिटीज का खतरा बढ़ना.
  • शरीर पर झुर्रियां पड़ जाना.
  • मांसपेशियां कमजोर होना.
  • हड्डियों का मुलायम होना.
  • इम्युनिटी का कम होना.
Vitamin D Ki Kami Se Kya Hota Hai

हमारे शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए विटामिन डी भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसकी कमी होने से हमारे शरीर की इम्यूनिटी कम हो जाती है और हड्डियों एवं जोड़ों में दर्द होता है तथा हड्डियां मुलायम हो जाती है.

शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर शरीर कमजोर महसूस करने लगता है, जिसकी वजह से हम बहुत जल्दी बीमार हो जाते हैं. बच्चों में विटामिन डी की कमी रिकेट्स रोग का कारण बनती है.

Vitamin D Ka Chemical Name

विटामिन D का रासायनिक नाम-  कैल्सिफेरॉल.

विटामिन डी एक एकल इकाई नहीं होती है, जबकि इसमें विटामिन D1, D2, D3, D4 और  D5 जैसे पांच अलग-अलग प्रकार के विटामिन सम्मिलित होते हैं.

Vitamin D Ki Kami Kaise Puri Karen

विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए कुछ तरीके अपनाए जा सकते हैं जो निम्नलिखित है:-

  • धूप विटामिन D का सबसे अच्छा स्त्रोत है. इसलिए प्रतिदिन कुछ समय के लिए सूर्य के थोड़े संपर्क में आकर धूप लेने से विटामिन डी की कमी को पूरा किया जा सकता है.
  • विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थो का उपयोग करें. जैसे:- अंडा, संतरा, मशरूम, दूध, पनीर, सोयोबिन, दही, अनाज, मांस, मछली आदि.
Vitamin D Ki Kami Ke Karan
  • वह लोग जो बहुत कम मात्रा में धूप में जाते हैं या जाते ही नही है, उनमें विटामिन डी की कमी हो सकती है. क्योंकि सूरज की किरणें विटामिन डी का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत है.
  • वह लोग जो बहुत कम मात्रा में डेयरी उत्पादों जैसे दूध, दही, मक्खन, घी आदि का सेवन करते हैं उनमें भी विटामिन डी की कमी पाई जाती है.
  • फास्ट फूड या जंक फूड जैसे- Pizza, Burger एवं अन्य बाहर की वस्तुओं का अधिक सेवन करने के कारण भी विटामिन डी की कमी होती है.
विटामिन डी की कमी में क्या खाना चाहिए

अंडा, मछली, दूध, दही, मक्खन, पनीर, मशरूम, ओट्स, बादाम, सोया मिल्क, संतरे का जूस, अनाज आदि विटामिन डी के महत्वपूर्ण स्रोत है जिनमें विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा मौजूद होती है. इसके अतिरिक्त विटामिन डी की प्राप्ति का सबसे अच्छा स्रोत सूरज की किरणें होती है जिनमें विटामिन डी की कमी को पूरा करने की क्षमता होती है.

Vitamin D Ki Kami Se Kya Rog Hota Hai
  • वयस्कों में विटामिन डी की कमी से ऑस्टियोपोरोसिस(हड्डियों से संबंधित) नामक रोग होता है.
  • बच्चों में विटामिन डी की कमी से रिकेट्स नामक रोग होता है.

Vitamin D Kaha Se Milta Hai

विटामिन डी प्राप्त करने के कई स्त्रोत होते हैं जिनसे हम विटामिन डी की पूर्ति कर सकते हैं. विटामिन डी की प्राप्ति का सबसे महत्वपूर्ण स्त्रोत सूर्य है क्योंकि सूर्य की किरणों में पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी होता है. इसके अतिरिक्त हम विटामिन डी की प्राप्ति करने के लिए कुछ खाद्य पदार्थों का उपयोग कर सकते हैं जैसे- अंडा, मछली, दूध, दही, मक्खन, पनीर, मशरूम, ओट्स, बादाम, सोया मिल्क, संतरे का जूस, अनाज आदि.

विटामिन डी कैसे बढ़ाएं

शरीर में विटामिन डी की मात्रा को बढ़ाने के लिए ऐसे पदार्थों का उपयोग करें जिसमें विटामिन डी पर्याप्त मात्रा में होता है. विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए या फिर विटामिन डी को बढ़ाने के लिए खाद्य पदार्थों जैसे- अंडा, मछली, दूध, दही, मक्खन, पनीर, मशरूम, ओट्स, बादाम, सोया मिल्क, संतरा, अनाज आदि का इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त विटामिन डी की प्राप्ति सूरज की किरणों अर्थात धूप से भी की जा सकती है.

Vitamin D Me Kya Kya Aata Hai

विटामिन डी के अंतर्गत कई तरह के खाद्य पदार्थ आते हैं. जैसे-

  • फलों में:- संतरा, तरबूज, पपीता, मोसमी, अंगूर आदि.
  • सब्जियों में:- चना, हरी या लाल मिर्च, पालक, आलू, टमाटर आदि.
  • अन्य:- अंडा,मछली आदि.

Vitamin D Ki Kami Ke Nuksan

  • भूख में कमी आ जाती है.
  • इम्यूनिटी कम हो जाती है.
  • अनिद्रा की समस्या हो सकती है.
  • हड्डियां एवं मांसपेशियां कमजोर हो जाते हैं.
  • कैल्शियम का स्तर बढ़ सकता है, जो गुर्दे की बीमारी का कारण बन सकती है.
Vitamin D Ki Kami Ke Karan Kya Hota Hai
  • वह लोग जो बहुत कम मात्रा में धूप में जाते हैं उनमें विटामिन डी की कमी हो सकती है. क्योंकि सूरज की किरणें विटामिन डी का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत है.
  • वह लोग जो बहुत कम मात्रा में डेयरी उत्पादों जैसे दूध, दही, मक्खन, घी आदि का सेवन करते हैं उनमें भी विटामिन डी की कमी पाई जाती है.
  • फास्ट फूड या जंक फूड जैसे- Pizza, Burger एवं अन्य बाहर की वस्तुओं का अधिक सेवन करने के कारण भी विटामिन डी की कमी होती है.
विटामिन D का सबसे अच्छा स्रोत कौन सा है

विटामिन डी की प्राप्ति का सबसे महत्वपूर्ण स्त्रोत सूर्य है क्योंकि सूर्य की किरणों में पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी होता है. इसके अतिरिक्त हम विटामिन डी की प्राप्ति करने के लिए कुछ खाद्य पदार्थों का उपयोग कर सकते हैं.

जैसे- अंडा, मछली, दूध, दही, मक्खन, पनीर, मशरूम, ओट्स, बादाम, सोया मिल्क, संतरे का जूस, अनाज आदि.

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट Vitamin D Se Kya Hota Hai और Vitamin D Ke Fayde पसंद आई होगी.

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर कर दीजिए और इस आर्टिकल से जुड़ा कोई भी सवाल हो तो उसे आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के पूछ सकते हैं.

Questions & Answer:
Banana Khane Se Kya Hota Hai और केला खाने के फायदे और नुकसान

Banana खाने से क्या होता है – फायदे नुकसान, दूध केला, सही समय

Kya Kaise
White Blood Cells Badhne Se Kya Hota Hai और WBC बढ़ने के लक्षण

White Blood Cells बढ़ने से क्या होता है – WBC बढ़ने के लक्षण और नुकसान

Health
Date Kya Hota Hai - Avishkar Kisne Kiya, History, Matlab, Spelling

Date क्या होता है – अविष्कार किसने किया, History, Spelling, Expiry Date, मतलब

Avishkar
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *