Direct Current की खोज किसने की, डायरेक्ट कर्रेंट क्या होता है

| | 3 Minutes Read

इस Article में हम जानेंगे Direct Current Ki Khoj Kisne Ki और DC Current Kya Hota Hai.

इसके साथ ही हम DC से जुड़े और भी सवालों के जवाब जानेंगे. जैसे कि DC किसे कहते हैं, DC के प्रकार, DC को AC में कैसे बदलें इत्यादि की पूरी जानकारी विस्तार में जानेंगे.

Direct Current Ki Khoj Kisne Ki

सन 1791 में Alessandro Volta के दोस्त Luigi Galvani ने यह पता लगाया कि मेंढक की माँसपेशीओं के साथ अलग अलग Metals को संपर्क में लाने से इलेक्ट्रिक करंट उत्पन्त होता है. Galvani ने इस Form को Animal electricity कहा पर Volta इससे प्रभावित नहीं थे.

उनका मानना था कि यह करंट Different Metals से उत्पन्त हुआ है, तो इसे Metal Electricity बोलना चाहिए. इसके 1792 में उन्होंने अकेले ही Metals के साथ Experiments करना शुरू कर दिया और सन 1800 में सफलता प्राप्त करते हुए उन्होंने बैटरी की खोज कर दी.

यह बैटरी ज़िंक और कॉपर के अल्टेरनेटिंग लेयर से बनी थी जिसे साल्ट वाटर में भिगोया जाता था. वोलटा के इस अविष्कार ने जल्द ही इलेक्ट्रिकल एक्सपेरिमेंट के ऊपर एक नई लहर का नेतृत्व किया. वोल्टा की यह इलेक्ट्रिक बैटरी DC इलेक्ट्रिक करंट को उत्पन्त करती थी.

DC Kya Hota Hai

DC (Direct Current) एक प्रकार का विद्युत प्रवाह है जिसमें विद्युत धारा (Current) एक ही दिशा में पलायन करती है, अर्थात् यह एक स्थिर और समान अवस्था में रहती है. DC Current की विशेषता यह है कि इसमें विद्युत धारा हमेशा एक ही दिशा में पलती रहती है, चाहे वो दिशा + (Positive) से – (Negative) की हो या – से + की हो.

DC current का एक प्रमुख उपयोग बैटरी, सोलर पैनल, और DC जनरेटर्स में होता है. जब आप किसी बैटरी से विद्युत ऊर्जा प्राप्त करते हैं, तो वो DC current होती है. इसका मुख्य उपयोग इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और कम वोल्टेज एप्लीकेशन्स में होता है.

उसके विपरीत, AC (Alternating Current) में विद्युत धारा की दिशा समय-समय पर बदलती रहती है. इस प्रकार का विद्युत प्रवाह अधिकांश घरों में उपयोग होता है, और इलेक्ट्रिकल ग्रिड सिस्टम भी AC current का उपयोग करता है, क्योंकि इसका व्यावसायिक रूप से उत्पादन और परिवहन किया जा सकता है.

DC Ko Ac Me Kaise Badle

1. सबसे पहले, आपको एक इनवर्टर चुनना होगा. आपको ध्यान में रखना होगा कि इनवर्टर की क्षमता आपके उपकरणों के चलाने में सक्षम हो.

2. आपको इनवर्टर को आपके DC पॉवर स्रोत से जोड़ना होगा. यदि आप बैटरी का उपयोग कर रहे हैं, तो बैटरी के पॉजिटिव और नेगेटिव टर्मिनल्स को इनवर्टर के DC इनपुट टर्मिनल्स से कनेक्ट करें.

3. इनवर्टर के AC आउटपुट टर्मिनल्स को आपके उपकरणों (जैसे कि Appliances, Lights, आदि) से कनेक्ट करें. इनवर्टर से निकलने वाली AC पॉवर उपकरणों को चलाने के लिए तैयार होगी.

4. अब आप इनवर्टर को ऑन करके अपने DC पॉवर स्रोत से AC पॉवर को प्राप्त कर सकते हैं. इनवर्टर के माध्यम से DC को AC में कन्वर्ट किया जाएगा और आपके कनेक्टेड उपकरणों को चलाने के लिए तैयार होगा.

ध्यान दें कि इनवर्टर के इस्तेमाल से कुछ पॉवर हानि हो सकती है, इसलिए आपको इनवर्टर की दक्षता को भी ध्यान में रखना चाहिए. इनवर्टर की क्षमता, बैटरी की क्षमता, और उपकरणों की पॉवर आवश्यकताओं को सही तरीके से मैच करना भी महत्वपूर्ण है.

DC Current Ka Full Form

DC Current का Full Form Direct Current है.

DC Current Ki Khoj Kisne Ki

DC Current की खोज Thomas Edition ने की थी.

उम्मीद करते हैं आपको हमारी पोस्ट Direct Current Ki Khoj Kisne Ki और Dc Kya Hota Hai पसंद आई होगी.

अगर आपको हमारा यह Article पसंद आया तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर करें और अगर इस Article से जुड़ा कोई सवाल हो तो उसे नीचे दिए Comment Box में पूछ सकते हैं.

Author:

Hello!! दोस्तों मेरा नाम Sameer है. मैं lipibaddh.com का Writer हूँ. मुझे हिंदी में Inventions से जुड़ी जानकारी पर Blogs लिखना पसंद है. मैं इन Blogs की मदद से आप तक सभी नए पुराने Inventions/ आविष्कार की जानकारी पहुंचाना चाहता हूँ. मेरा आपसे निवेदन है की आप इसी तरह मेरा सहयोग देते रहें और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों के साथ मेरे लिखे Content को शेयर करें. मैं आप सभी के लिए Latest जानकारियाँ उपलब्ध करवाता रहूँगा.

Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *