Ghadi का आविष्कार किसने किया – घडी के बारे में बताइये, घडी के प्रकार

इस पोस्ट में हम जानेंगे की Ghadi Ka Avishkar Kisne Kiya और Ghadi Ke Bare Mein Bataiye साथ ही जानेंगे घडी लगाने की सही दिशा और घडी कैसे पहनते है.

Ghadi Ka Avishkar Kisne Kiya और Ghadi Ke Bare Mein Bataiye

साथ ही पोस्ट में जानेंगे की घडी के सवाल, प्रकार, घडी पर पांच वाक्य और दुनिया की सबसे महंगी घडी कौनसी है. इन सब के बारे में इस पोस्ट में विस्तार से जानेंगे.

Ghadi Ka Avishkar Kisne Kiya

घड़ी का आविष्कार का श्रेय पोप सिलवेस्टर द्वितीय को दिया जाता है. इन्होने सन 996 ईस्वी में घडी का आविष्कार किया था. यूरोपीय देशो में घडियो का उपयोग 13वी शताब्दी में होने लग गया था. इसके अलावा करीबन 1288 में इंग्लैंड के Westminster में घण्टाघरो में घड़ियाँ लगायी गयी थी.

उस समय बनायीं गयी घडी आज के समय से बिलकुल ही अलग थी. वह घडी पूरी तरह सही और कम्पलीट नहीं मानी जा सकती थी. घडी में मिनट वाली सुई 1577 में स्विट्ज़रलैंड के रहने वाले जोस बर्गी ने लगायी थी. उनसे पहले वाली घडी में मिनट वाली सुई नहीं हुआ करती थी.

जोस बर्गी से पहले जर्मनी के न्यूरमबर्ग शहर में रहने वाले पीटर हेनलेन ने एक ऐसी घडी बना ली थी जिसे एक जगह से दूसरी जगह तक बड़ी आसानी से ले जाया जा सकता था.

आज के आधुनिक समय में हम अपने हाथ में जो घडी पहनते है ठीक उसी तरह की पहली घडी का निर्माण फ़्रांसिसी गणितज्ञ ब्लेज पास्कल ने बनायीं थी. ब्लेज पास्कल को ही कैलकुलेटर का आविष्कारक भी माना जाता है.

सन 1650 से पहले तक लोग घडी को जेब में रखकर घुमा करते थे. परन्तु ब्लेज पास्कल ने इस समस्यां का हल निकाल कर घडी को एक रस्सी या बेल्ट से जोड़ दिया था जिसे बड़ी ही आसानी से हाथो में पहना जा सकता था और लोग काम करते हुए भी घडी को देखकर समय देख पाते थे.

भारत में भी समय का पता करने के लिए कई प्रयास किये गए थे. 18वी शताब्दी की शुरुवात के समय में जयपुर के महाराजा जय सिंह द्वितीय ने 5 जगहों जयपुर, नई दिल्ली, उज्जैन, मथुरा और वाराणसी में समय ज्ञात करने के लिए जंतर मंतर का निर्माण करवाया था.

इन सभी का निर्माण कार्य 1724 और 1735 के बीच में पूरा कर लिया गया था. इनकी मदद से सूरज की दिशा और उससे बनी परछाई के आधार पर समय का पता लगाया जा सकता था.

Ghadi Ke Bare Mein Bataiye

घडी एक समय के बारे में जानकारी देने वाला उपकरण होता है जिसकी मदद से हम सही समय का पता लगा सकते है. इसमें समय बताने के लिए तीन सुई होती है. पहली और सबसे छोटी सुई घंटे को बताती है तो उससे बड़ी सुई मिनट बताती है.

इसमें सेकंड बताने के लिए भी सुई होती है जो चलती ही रहती है. हर तरह की सुई में एक बैटरी या सेल का इस्तेमाल किया जाता है ताकि घडी को चालू रख सके. ये सेल या बैटरी ख़तम भी हो जाते है जिन्हे आप बाजार से खरीद सकते है यह बहुत ही कम मूल्य पर आपको मिल जाते है.

घडी के बारे में और अधिक जानने के लिए आप हमारी इस पोस्ट को डिटेल में पड़ सकते है इसमें आपको घडी से जुडी कई तरह की जानकारिया दी गयी है.

Ghadi Ka Cell

घडी के सेल अलग-अलग तरह के होते है क्योकि घडिया भी अलग-अलग तरह की होती है. हाथ घडी के लिए छोटे-छोटे गोल और चपटे सेल का इस्तेमाल  किया जाता है जबकि दीवार पर लगाने वाली घडी के लिए बेलनाकार और थोड़ा सा लम्बा सेल इस्तेमाल किया जाता है.

Ghadi Lagane Ki Sahi Disha

वास्तुशास्त्र के अनुसार घडी को उत्तर-पूर्व की दिशा में दीवार पर लगाना शुभ माना जाता है, क्योकि पूर्व और उत्तर की दिशा में सकारत्मक ऊर्जा का संचार रहता है और इन दिशाओ में घडी लगाने से अच्छे और शुभ फल प्राप्त होते है. आपका समय भी सही रहता है.

Ghadi Kaise Pehnate Hain

अधिकतर लोग घडी को अपने उलटे हाथ में पहनते है, क्योकि उलटे हाथ में घडी बाँधने की सबसे खास वजह अधिकतर लोगो का दाए हाथ से काम करना होता है. जब आपका दाया हाथ काम कर रहा होता है तो बाए हाथ से समय देखना आसान होता है.

आजकल  बाए हाथ में घडी बांधना बहुत आम बात हो चुकी है और  घडी बनाने वाली कम्पनिया भी उसी के आधार पर घडिया बना रही है.

घड़ी पर पांच वाक्य

घडी पर पांच वाक्य कुछ इस प्रकार है :

  • घडी की मदद से हम समय का पता कर सकते है की अभी समय क्या हुआ है.
  • घडी को हम हाथ पर भी बाँध सकते है और इसे दीवार पर भी लगाया जा सकता है.
  • घडी में हम अलार्म लगाकर सो सकते है ताकि हमें जब उठना हो तब अलार्म बज जाए और हम समय पर उठ जाए.
  • घडी में सेकंड के लिए, मिनट और घंटे के लिए तीन अलग सुई होती है.
  • घडी को चलने के लिए इसमें बैटरी या सेल की जरुरत होती है.

Ghadi Ke Prakar

घडिया कई प्रकार की होती है :

  • मैकेनिकल घडी
  • इलेक्ट्रॉनिक घडी
  • डिजिटल घडी
  • स्मार्ट घडी
  • ऑटोमैकि घडी
  • रेत वाली घडी
  • अलार्म घडी
  • दीवार घडी आदि.
Ghadi Ke Sawal

घडी से जुड़े कुछ सवाल निम्न है :

  • एक मिनट में 60 सेकंड और एक घंटे में 60 मिनट होते है.
  • हर घंटे में घडी की दोनों सुई एक बार आपस में जरूर मिलती है.
  • हर एक घंटे में दोनों सुइया दो बार समकोण (90 डिग्री) बनाती है.
  • प्रत्येक घंटो में एक बार दोनों सुइया विपरीत दिशा में होती है.
  • हर एक घंटे के दौरान मिनट वाली सुई घंटे वाली सुई से 55 मिनट अधिक दुरी तय करती है.

Quartz Ghadi Kya Hai

Quartz किसी भी कंपनी या उसे बनाने वाले व्यक्ति का नाम नहीं है बल्कि यह एक टाइमिंग टेक्नोलॉजी का नाम होता है और जिस किसी भी घडी में यह टेक्नोलॉजी इस्तेमाल की जाती है उन पर Quartz लिखा जाता है.

Quartz एक तरह का क्रिस्टल होता है जो एक सेकंड में तक़रीबन 32,768 बार कंपन्न होता है. इस कम्पन की वजह से ही घडी में प्रयुक्त मशीन को सिग्नल मिलता है जिससे सुई चल पाती है और हमें समय बताती है.

Ghadi Ko Kya Bolate Hain

घडी को अंग्रेजी में Watch और Clock कहते है. हाथ में पहनने वाली घडी को हम Watch और दीवार पर लगाने वाली घडी को Clock कहते है. इसे समय यंत्र भी कहा जाता है.

Ghadi Me Time Kaise Dekhte Hain

घडी में टाइम देखने के लिए सुई होती है. इसमें एक सुई सेकंड, एक मिनट और एक घंटे के बारे में बताती है. उदाहरण के लिए यदि समय 4 हो रहा है तो सबसे छोटा और घंटे का काटा 4 पर, मिनट और सेकंड का काटा 12 पर होते है तो 4 बज रहे होते है.

घड़ी ऑनलाइन बुकिंग लेडीज

किसी भी प्रकार की घडी जैसे हाथ घडी, दीवार घडी, लड़को के लिए, लड़कियों के लिए घडी को आप ऑनलाइन प्लेटफार्म जैसे Amazon, Flipkart, Meesho, Shopsy आदि से बुक करके आर्डर कर सकते है.

Ghadi – FAQs
Ghadi Order Kaise Karte Hain

घडी को आप किसी भी ऑनलाइन माध्यम अमेज़न, फ्लिपकार्ट, मीशो आदि से ऑनलाइन आर्डर कर सकते है.

Ghadi Rakhne Ki Sahi Disha

घडी रखने की सही दिशा उत्तर-पूर्व मानी जाती है. इससे कई तरह के फायदे भी होते है.

दुनिया की सबसे महंगी घड़ी कौन सी है

दुनिया की सबसे महंगी घडी ग्रैफ डायमंड्स हैल्यूसीनेशन (Graff Diamonds Hallucination) को माना जाता है. इसकी कीमत 55 मिलियन डॉलर यानी लगभग 400 करोड रुपये है. यह पूरी घडी 110 कैरट के दुर्लभ हीरो से सजी हुई है.

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट Ghadi Ka Avishkar Kisne Kiya और Ghadi Ke Bare Mein Bataiye पसंद आई होगी.

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर कर दीजिए और इस आर्टिकल से जुड़ा कोई भी सवाल हो तो उसे आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के पूछ सकते हैं.

Questions & Answer:
Finail पीने से क्या होता है -फिनाइल पीने के नुकसान, पीने के बाद घरेलु उपचार

Finail पीने से क्या होता है -फिनाइल पीने के नुकसान, पीने के बाद घरेलु उपचार

Kya Kaise
Hing Khane Se Kya Hota Hai और Hing Se Period Kaise Laye

हिंग खाने से क्या होता है – Hing के फायदे और नुकसान,उपयोग,price,हिंग से पीरियड

HealthKya Kaise
Vidyut Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya और Vidyut Bulb Ki Sanrachna

Vidyut Bulb का आविष्कार किसने किया – विद्युत बल्ब की संरचना

Avishkar
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *