पारद टिकड़ी खाने से क्या होता है – Parad Tikdi के फायदे और नुकसान

इस पोस्ट में हम जानेंगे की Parad Tikdi Khane Se Kya Hota Hai और Parad Tikdi Ke Fayde Aur Nuksan साथ ही जानेंगे ज्यादा Parad Tikdi आपकी सेहत के लिए कैसा है.

Parad Tikdi Khane Se Kya Hota Hai - Parad Tikdi Ke Fayde Or Nuksan

साथ ही पोस्ट में हम Parad Tikdi Khane Se Kya Hota Hai पोस्ट में विस्तार से जानेंगे.

Parad Tikdi Khane Se Kya Hota Hai

पारद टिकड़ी Tablets एक प्रकार की दवा है जिसका इस्तेमाल पेट सम्बंधित बीमारियों के इलाज के लिये किया जाता है.

इसका उपयोग करने से पेट और आंत की मांसपेशियों को आराम मिलता है और जिनसे पेट एवं आंत में होने वाला दर्द व ऐठन कम हो जाता है. पारद टिकड़ी का उपयोग करने से कई तरह के लाभ होते है. जैसे-

  • मस्तिष्क के उन Chemical Messanger  को Block करता है जो दर्द की अनुभूति के लिए जिम्मेदार होते है.
  • आपका शरीर Active हो जाता है.
  • पाचन में सुधार हो जाता है.

पारद टिकड़ी कई मामलों में असरकारक दवाई है, लेकिन फिर भी सूट ना करने पर या फिर बिना चिकित्सक की सलाह लिए उपयोग करने पर आपको कुछ नुकसान झेलना पड़ सकता है,

इसलिए हमेशा याद रखें कि पारद टिकड़ी का उपयोग करने से पहले चिकित्सक से परामर्श जरूर ले, और चिकित्सक द्वारा बताई जाने वाली मात्रा का ही इस्तेमाल करें, अन्यथा आपको नुकसान हो सकते हैं.

Parad Tikdi Ke Nuksan

पारद टिकड़ी मुख्य रूप से पेट संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए दी जाने वाली Tablet है. कुछ लोगों को इसे लेने पर एलर्जी हो जाती है या सूट ना होने पर कुछ अन्य नुकसान दिखाई दे सकते हैं. जिनमें से कुछ नीचे प्रदर्शित है.

पारद टिकड़ी खाने से होने वाले नुकसान:-

  • जी-मचलना.
  • घबराहट होना.
  • ज्यादा नींद आना.
  • मुँह में सूखापन होना.
  • कमजोरी महसूस होना.
  • अगर कोई शराब पीने वाला व्यक्ति इस Tablet का उपयोग करता है तो यह उसके Liver Damage का कारण बन जाएगी.
  • अगर आपको पेट या लीवर संबंधी कोई बीमारी है तो इस स्थिति में पारद टिकड़ी लेने पर यह आपकी स्थिति और बिगाड़ सकती हैं.

Parad Tikdi Poisoning

पारद टिकड़ी Tablets दो तरह की आती है. इनमें से एक का उपयोग पेट संबंधित दर्द को दूर करने के लिए और जो दूसरी तरह की Tablets होती है जिनका उपयोग अनाज को संरक्षित करने वाले गोलियों के रूप में किया जाता है.

इन Tablets का उपयोग अनाज में होने वाले वाले कीटों से सुरक्षा करने के लिए किया जाता है. यह Tablets उन कीटों के लिए जहर का काम करती है. अगर गलती से भी किसी इंसान ने इस Tablet को खा लिया तो यह Tablet उसकी मृत्यु का कारण बन सकती है.

Parad Tikdi Price

पारद टिकड़ी की कीमत Amazon पर:-(कीटों को मारने वाली)

पारद टिकिया 50 gm(Pack of 1)- Rs 149.00/-

पारद टिकिया 100 gm(Pack of 1)- Rs 298.00/-

Parad Tikdi Tablets Use

पारद टिकड़ी का उपयोग बच्चे, वयस्क एवं बुजुर्ग तीनो लोग कर सकते हैं, लेकिन इनकी मात्रा तीनों के लिए अलग-अलग होती है. इसके अतिरिक्त पारद टिकड़ी का उपयोग यह देखकर भी किया जाता है कि रोगी को किस तरह की बीमारी है,

इसलिए हम कह सकते हैं कि इस दवाई का उपयोग कितनी मात्रा में लेना चाहिए, यह लेने वाले की आयु और उसे होने वाले बीमारी पर आधारित होता है.

अगर हम आयु के अनुसार बात करें तो सामान्यतः बच्चे जिनकी आयु 2 से 12 वर्ष है, उनके लिए पारद टिकड़ी की 0.5 मात्रा ली जाती है, और इसे दिन में लगभग 3 बार लिया जाता है.

इस तरह अगर हम वयस्क की बात करें तो उनके द्वारा पारद टिकड़ी की मात्रा 1 होती है अर्थात हर बार एक Tablet, वयस्क द्वारा भी एक गोली को सामान्य तौर पर दिन में तीन बार लिया जाता है.

बुजुर्गों के लिए भी पारद टिकड़ी लेने का तरीका वयस्क के समान ही है अर्थात बुजुर्ग व्यक्ति भी दिन में तीन बार एक-एक गोली लेता है.

पारद टिकड़ी Tablet की मात्रा कितनी ले और दिन में कितनी बार ले, यह चिकित्सक की परामर्श के बाद ही सुनिश्चित करें. क्योंकि इस Tablet की मात्रा आयु के साथ-साथ इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपको किस तरह की समस्या है.

पारद टिकड़ी का उपयोग खाना खाने के बाद ही किया जाता है.

Parad Tikdi Tablets Use in Hindi

पारद टिकड़ी का उपयोग हर उम्र के लोगों द्वारा किया जा सकता है अर्थात यह Tablet बड़े, बूढ़े एवं बच्चे तीनों ले सकते हैं. लेकिन इन तीनों का लेने का तरीका अलग होगा-

  • बच्चे जिनकी आयु 2 से 12 वर्ष है, उनके लिए पारद टिकड़ी की 0.5 मात्रा ली जाती है, और इसे दिन में लगभग 3 बार लिया जाता है.
  • वयस्क की बात करें तो उनके द्वारा पारद टिकड़ी की मात्रा 1 होती है अर्थात हर बार एक Tablet, वयस्क द्वारा भी एक-एक गोली को सामान्य तौर पर 1 दिन में तीन बार लिया जाता है.
  • बुजुर्ग व्यक्तियों द्वारा भी 1 दिन में तीन गोली ली जाती है, और हर बार में वह एक गोली लेते हैं.

पारद टिकड़ी Tablet की मात्रा कितनी ले और दिन में कितनी बार ले, यह चिकित्सक की परामर्श के बाद ही सुनिश्चित करें. क्योंकि इस Tablet की मात्रा आयु के साथ-साथ इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपको किस तरह की समस्या है.

Parad Tikdi Use

पारद टिकड़ी का उपयोग एक संरक्षक की तरह भी किया जाता है. अक्सर हम देखते है कि अनाज को लंबे समय तक रखने पर उसमें कीड़े लग जाते हैं जिसके कारण अनाज को नुकसान होता है. इसलिए अनाज को इन कीड़ों से बचाने के लिए कई तरीके अपनाये जाते हैं, जिनमें से एक यह भी है. अर्थात पारद टीकड़ी का उपयोग अनाज को खाद्य कीड़ों से बचाने के लिए किया जाता है. 1 किलो चावल, दाल, या अनाज में तीन-चार Tablets डालकर उसे संरक्षित किया जा सकता है.

पारद तिकड़ी का उपयोग करने का फायदा यह है कि इसे अनाज में मिलाकर रखने पर भी यह स्पष्ट रूप से दिखाई देता है, क्योंकि इनकी गोलियों का आकार छोटा नहीं होता है इसलिए खाना बनाते समय हम इन्हें आसानी से निकाल सकते हैं. पारद टिकड़ी टिकाऊ भी होती है, किसी भी अनाज में इसकी गोलियां रखने पर, उस अनाज को 1 से 2 साल तक संरक्षित किया जा सकता है.

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट Parad Tikdi Se Kya Hota Hai और Parad Tikdi Ke Fayde Aur Nuksan  पसंद आई होगी.

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर कर दीजिए और इस आर्टिकल से जुड़ा कोई भी सवाल हो तो उसे आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के पूछ सकते हैं.

Questions & Answer:
टमाटर खाने से क्या होता है, खाने की विधि, पौधा, Skin, फायदे नुक्सान

टमाटर खाने से क्या होता है, खाने की विधि, पौधा, Skin, फायदे नुक्सान

Kya Kaise
Tulsi Khane Se Kya Hota Hai और तुलसी के पत्ते को कैसे खाएं

Tulsi खाने से क्या होता है- तुलसी के पत्ते को कैसे खाएं, फायदे और नुकसान

Kya Kaise
Butterfly Ghar Mein Aane Se Kya Hota Hai और शरीर पर तितली बैठने से क्या होता है

Butterfly घर में आने से क्या होता है – शरीर पर तितली बैठने से क्या होता है

Kya Kaise
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *