Vidyut Bulb का आविष्कार किसने किया – विद्युत बल्ब की संरचना

आज इस पोस्ट में हम जानेंगे की Vidyut Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya और Vidyut Bulb Ki Sanrachna साथ ही जानेंगे की विद्युत बल्ब क्या है और एलईडी बल्ब का आविष्कार किसने किया.

Vidyut Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya और Vidyut Bulb Ki Sanrachna

साथ ही पोस्ट में यह भी जानेंगे की विद्युत बल्ब का फिलामेंट और विद्युत बल्ब की कार्यविधि बताइये. इन सब के बारे में इस पोस्ट में हम विस्तार से जानेंगे.

Vidyut Bulb Kya Hai

विद्युत बल्ब को तापदीप्त लैंप और बल्ब भी कहते है. इसमें विद्युत धारा के प्रभाव के कारण प्रकाश उत्पन्न होता है. विद्युत बल्ब में एक पतला फिलामेंट होता है. जब इस फिलामेंट में विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है तो यह फिलामेंट गरम हो जाता है और गरम होकर प्रकाश देने लगता है.

फिलामेंट के गरम होने के कारण प्रकाश का उत्सर्जित होना, तापदीप्ति कहलाता है.

Vidyut Bulb Ki Paribhasha

जब फिलामेंट (टंगस्टन धातु का बना एक पतला तार) में विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है तो यह फिलामेंट गरम होने लगता है और गरम होने के कारण प्रकाश का उत्सर्जन करता है. फिलामेंट का गरम होकर प्रकाशित होना तापदीप्ति कहलाता है और तापदीप्ति के इस माध्यम या उपकरण जो विद्युत पाकर प्रकाश देता है विद्युत बल्ब कहलाता है.

Vidyut Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya

विद्युत बल्ब का आविष्कार थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) द्वारा वर्ष 1879 में किया गया था. थॉमस एल्वा एडिसन एक महान वैज्ञानिक थे.

उन्होंने ना केवल विद्युत बल्ब का आविष्कार किया बल्कि अन्य कई चीजों जैसे: Motion Camera Picture, Carbon Telephone Transmeter, Alcline Storage Battery और Gramophone का भी आविष्कार किया है.

थॉमस एल्वा एडिसन के पहले कई वैज्ञानिको ने विद्युत बल्ब बनाने की कोशिश की थी परन्तु उनमे से सफल केवल एडिसन ही हुए.

Vidyut Bulb Ki Sanrachna

विद्युत बल्ब की आंतरिक संरचना में दो मोटे पार लगे होते हैं. इन तारों के ऊपरी हिस्से पर टंगस्टन धातु का एक पतला और घुमावदार तार लगा होता है जिसे फिलामेंट कहा जाता है.

इस फिलामेंट से जुड़े दो तारो में विद्युत धारा प्रवाहित करने से यह फिलामेंट गरम होकर प्रकाश उत्त्पन करता है.

विद्युत बल्ब की बाहरी संरचना में फिलामेंट को ढकने के लिए कांच का एक आवरण बना रहता है जो फिलामेंट को बाहरी गैस और वातावरण के संपर्क में आने से रोकता है. अगर फिलामेंट पर कांच न लगाया जाता तो इसमें ऑक्सीजन गैस फिलामेंट को कमजोर कर देती, जिसकी वजह से प्रकाश उत्पन्न नहीं हो पाता.

इस कांच के अंदर ऑर्गन या नाइट्रोजन गैस भरी जाती है. यह गैस फिलामेंट को टूटने और खंडित होने से बचाती है. विद्युत बल्ब के निचे दो इलेक्ट्रोड लगे होते है. जिनसे विद्युत धारा प्रवाहित होकर बल्ब को प्रकशित करती है.

Vidyut Bulb Ka Filament

विद्युत बल्ब का फिलामेंट टंगस्टन धातु का बना होता है. इस धातु का गलनांक भी बहुत अधिक होता है. टंगस्टन धातु के उच्च गलनांक की वजह से ही विद्युत बल्ब का फिलामेंट इस धातु का बनाया जाता है ताकि यह अधिक गर्म होने पर पिघल ना जाये.

विद्युत बल्ब की कार्यविधि

विद्युत बल्ब की कार्यविधि हमने आपको आसान शब्दों में कुछ विशेष बिन्दुओ के माध्यम से समझाने की कोशिश की है:

  • विद्युत बल्ब के अंदर दो इलेक्ट्रोड लगे होते है जिनसे फिलामेंट जुड़ा होता है.
  • यह फिलामेंट पतला और घुमावदार होता है जो टंगस्टन धातु का बना होता है.
  • इस फिलामेंट को कांच के आवरण से ढक दिया जाता है और इसमें ऑर्गन या नाइट्रोजन गैस भर दी जाती है.
  • अब विद्युत बल्ब में लगे इलेक्ट्रोड की मदद से विद्युत धारा को प्रवाहित किया जाता है.
  • जब विद्युत धारा इन इलेक्ट्रोड में प्रवाहित की जाती है तो बल्ब में लगा फिलामेंट गरम होने लगता है और प्रकाश देने लगता है.
  • इस तरह से विद्युत बल्ब प्रकाशित होता है.

Fact: क्या आप लोग जानते है विद्युत बल्ब 1 सेकंड में 50 से 60 बार जलता और बुझता है. यह इतना तेज होता है की हम अपनी आँखों से देख ही नहीं पाते है. जिस वजह से यह हमें केवल प्रकाश देते हुए ही दिखाई देता है.

एलईडी बल्ब का आविष्कार किसने किया

LED बल्ब का आविष्कार सन 1962 में निक होलोनिक जूनियर (Nick Holonyak) द्वारा किया गया था. इन्होने सबसे पहले प्रकाश उत्सर्जक डायोड को बनाया था. यह आविष्कार निक होलोनिक ने जनरल इलेक्ट्रिक कंपनी की प्रयोगशाला में वैज्ञानिक पद पर काम करते हुए किया था.

एलईडी बल्ब का आविष्कार करने वाले वैज्ञानिक निक होलोनिक का जन्म 3 नवंबर 1928 को हुआ था. उन्होंने यह आविष्कार 34 वर्ष की आयु में किया था.

Vidyut Bulb – FAQs

Vidyut Bulb Me Gas

सामान्यतः विद्युत बल्ब में आर्गन या नाइट्रोजन गैस भरी होती है. 

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट Vidyut Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya और Vidyut Bulb Ki Sanrachna पसंद आई होगी.

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर कर दीजिए और इस पोस्ट से जुड़ा आपका कोई भी सवाल हो तो उसे आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के पूछ सकते हैं.

Questions & Answer:
Clean and Clear Face Wash लगाने से क्या होता है, कैसे Use करे, फायदे नुकसान

Clean and Clear Face Wash लगाने से क्या होता है, कैसे Use करे, फायदे नुकसान

Kya Kaise
Eno Peene Se Kya Hota Hai  और ईनो पीने के फायदे और नुकसान

ENO पीने से क्या होता है, ईनो के फायदे, Pregnancy में पीना चाहिए या नही

Health
Diploma Karne Se Kya Hota Hai और Diploma Karne Ke Fayde

Diploma करने से क्या होता है – डिप्लोमा का फुल फॉर्म, फीस, इसके प्रकार और फायदे

Education
Author :
प्रिये पाठक, आपका हमारी वेबसाइट Lipibaddh.com पर स्वागत है, इस वेबसाइट का काम लोगों को हिंदी भाषा में देश, विदेश एवं दैनिक जीवन में काम आने वाली जरुरी चीजों के बारे में जानकरी देना है.
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *